कृष्ण चालीसा – Krishn Chalisa in Hindi

कृष्ण चालीसा का पाठ हृदय में भगवद्भक्ति पैदा करता है और श्री कृष्ण की कृपा आकृष्ट करता है। भगवान कृष्ण तो भक्त-वत्सल हैं। वे अपने भक्तों के लिए दौड़े चले आते हैं। कृष्ण चालीसा (Krishna Chalisa in Hindi) को पढ़ना मानो अपने चित्त में उन्हीं भक्तों के प्रिय कृष्ण को बुलावा देना है। पढ़ें मनोवांछित फल देने वाली कृष्ण चालीसा–

॥ दोहा ॥
वंशी शोभित कर मधुर,
नील जलद तन श्याम।
अरुण अधर जनु बिम्ब फल,
नयन कमल अभिराम॥
पूर्ण इन्द्र अरविन्द मुख,
पीताम्बर शुभ साज।
जय मनमोहन मदन छवि,
कृष्ण चन्द्र महाराज

॥ चौपाई॥
जय यदुनन्दन जय जगवन्दन,
जय वसुदेव देवकी नन्दन।
जय यशोदा सुत नन्द दुलारे,
जय प्रभु भक्तन के दृग तारे।
जय नटनागर नाग नथइया,
कृष्ण कन्हैया धेनु चरइया।

पुनि नख पर प्रभु गिरिवर धारो,
आओ दीनन कष्ट निवारो।

वंशी मधुर अधर धरि टेरी,
होवे पूर्ण विनय यह मेरी।

आओ हरि पुनि माखन चाखो,
आज लाज भारत की राखो।

गोल कपोल चिबुक अरुणारे,
मृदु मुस्कान मोहिनी डारे।

रंजित राजिव नयन विशाला,
मोर मुकुट बैजन्ती माला।

कुण्डल श्रवण पीतपट आछे,
कटि किंकणी काछन काछे।

नील जलज सुन्दर तनु सोहै,
छवि लखि सुर नर मुनि मन मोहै।

मस्तक तिलक अलक घुँघराले,
आओ कृष्ण बांसुरी वाले।

करि पय पान, पूतनहिं तारयो,
अका बका कागा सुर मारयो।

मधुवन जलत अगिन जब ज्वाला,
भये शीतल, लखितहिं नन्दलाला।

सुरपति जब ब्रज चढ़यो रिसाई,
मूसर धार वारि वर्षाई।

लगत-लगत ब्रज चहन बहायो,
गोवर्धन नखधारि बचायो।

लखि यसुदा मन भ्रम अधिकाई,
मुख.मँह चौदह भुवन दिखाई।

दुष्ट कंस अति उधम मचायो,
कोटि कमल जब फूल मँगायो।

नाथि कालियहिं तब तुम लीन्हें,
चरणचिन्ह दे निर्भय कीन्हैं।

करि गोपिन संग रास विलासा,
सबकी पूरण करि अभिलाषा।

केतिक महा असुर संहारियो,
कंसहि केस पकड़ि दै मारयो।

मात-पिता की बन्दि छुड़ाई,
उग्रसेन कहँ राज दिलाई।

महि से मृतक छहों सुत लायो,
मातु देवकी शोक मिटायो।

भौमासुर मुर दैत्य संहारी,
लाये षट दस सहस कुमारी।

दें भीमहि तृणचीर संहारा,
जरासिंधु राक्षस कहँ मारा।

असुर बकासुर आदिक मारयो,
भक्तन के तब कष्ट निवारियो।

दीन सुदामा के दुःख टारयो,
तंदुल तीन मूठि मुख डारयो।

प्रेम के साग विदुर घर माँगे,
दुर्योधन के मेवा त्यागे।

लखी प्रेमकी महिमा भारी,
ऐसे श्याम दीन हितकारी।

मारथ के पारथ रथ हांके,
लिए चक्र कर नहिं बल थांके।

निज गीता के ज्ञान सुनाये,
भक्तन हृदय सुधा वर्षाये।

मीरा थी ऐसी मतवाली,
विष पी गई बजा कर ताली।

राणा भेजा साँप पिटारी,
शालिग्राम बने बनवारी।

निज माया तुम विधिहिं दिखायो,
उरते संशय सकल मिटायो।

तव शत निन्दा करि तत्काला,
जीवन मुक्त भयो शिशुपाला।

जबहिं द्रोपदी टेर लगाई,
दीनानाथ लाज अब जाई।

तुरतहि वसन बने नन्दलाला,
बढ़े चीर भये अरि मुँह काला।

अस अनाथ के नाथ कन्हैया,
डूबत भँवर बचावत नइया।

सुन्दरदास आस उर धारी,
दयादृष्टि कीजै बनवारी।

नाथ सकल मम कुमति निवारो,
क्षमहुबेगि अपराध हमारो।

खोलो पट अब दर्शन दीजै,
बोलो कृष्ण कन्हैया की जय।

॥ दोहा॥
यह चालीसा कृष्ण का,
पाठ करे उर धारि।
अष्ट सिद्धि नवनिद्धि फल,
लहै पदारथ चारि॥

Read Krishn Chalisa

॥dohā॥
vaṃśī śobhita kara madhura,
nīla jalada tana śyāma।
aruṇa adhara janu bimba phala,
nayana kamala abhirāma॥

pūrṇa indra aravinda mukha,
pītāmbara śubha sāja।
jaya manamohana madana chavi,
kṛṣṇa candra mahārāja॥

॥caupāī॥
jaya yadunandana jaya jagavandana,
jaya vasudeva devakī nandana।

jaya yaśodā suta nanda dulāre,
jaya prabhu bhaktana ke dṛga tāre।

jaya naṭanāgara nāga nathaiyā,
kṛṣṇa kanhaiyā dhenu caraiyā।

puni nakha para prabhu girivara dhāro,
āo dīnana kaṣṭa nivāro।

vaṃśī madhura adhara dhari ṭerī,
hove pūrṇa vinaya yaha merī।

āo hari puni mākhana cākho,
āja lāja bhārata kī rākho।

gola kapola cibuka aruṇāre,
mṛdu muskāna mohinī ḍāre।

raṃjita rājiva nayana viśālā,
mora mukuṭa baijantī mālā।

kuṇḍala śravaṇa pītapaṭa āche,
kaṭi kiṃkaṇī kāchana kāche।

nīla jalaja sundara tanu sohai,
chavi lakhi sura nara muni mana mohai।

mastaka tilaka alaka ghu~gharāle,
āo kṛṣṇa bāṃsurī vāle।

kari paya pāna, pūtanahiṃ tārayo,
akā bakā kāgā sura mārayo।

madhuvana jalata agina jaba jvālā,
bhaye śītala, lakhitahiṃ nandalālā।

surapati jaba braja caḍha़yo risāī,
mūsara dhāra vāri varṣāī।

lagata-lagata braja cahana bahāyo,
govardhana nakhadhāri bacāyo।

lakhi yasudā mana bhrama adhikāī,
mukha.ma~ha caudaha bhuvana dikhāī।

duṣṭa kaṃsa ati udhama macāyo,
koṭi kamala jaba phūla ma~gāyo।

nāthi kāliyahiṃ taba tuma līnheṃ,
caraṇacinha de nirbhaya kīnhaiṃ।

kari gopina saṃga rāsa vilāsā,
sabakī pūraṇa kari abhilāṣā।

ketika mahā asura saṃhāriyo,
kaṃsahi kesa pakaḍa़i dai mārayo।

māta-pitā kī bandi chuḍa़āī,
ugrasena kaha~ rāja dilāī।

mahi se mṛtaka chahoṃ suta lāyo,
mātu devakī śoka miṭāyo।

bhaumāsura mura daitya saṃhārī,
lāye ṣaṭa dasa sahasa kumārī।

deṃ bhīmahi tṛṇacīra saṃhārā,
jarāsiṃdhu rākṣasa kaha~ mārā।

asura bakāsura ādika mārayo,
bhaktana ke taba kaṣṭa nivāriyo।

dīna sudāmā ke duḥkha ṭārayo,
taṃdula tīna mūṭhi mukha ḍārayo।

prema ke sāga vidura ghara mā~ge,
duryodhana ke mevā tyāge।

lakhī premakī mahimā bhārī,
aise śyāma dīna hitakārī।

māratha ke pāratha ratha hāṃke,
lie cakra kara nahiṃ bala thāṃke।

nija gītā ke jñāna sunāye,
bhaktana hṛdaya sudhā varṣāye।

mīrā thī aisī matavālī,
viṣa pī gaī bajā kara tālī।

rāṇā bhejā sā~pa piṭārī,
śāligrāma bane banavārī।

nija māyā tuma vidhihiṃ dikhāyo,
urate saṃśaya sakala miṭāyo।

tava śata nindā kari tatkālā,
jīvana mukta bhayo śiśupālā।

jabahiṃ dropadī ṭera lagāī,
dīnānātha lāja aba jāī।

turatahi vasana bane nandalālā,
baḍha़e cīra bhaye ari mu~ha kālā।

asa anātha ke nātha kanhaiyā,
ḍūbata bha~vara bacāvata naiyā।

sundaradāsa āsa ura dhārī,
dayādṛṣṭi kījai banavārī।

nātha sakala mama kumati nivāro,
kṣamahubegi aparādha hamāro।

kholo paṭa aba darśana dījai,
bolo kṛṣṇa kanhaiyā kī jaya।

॥ dohā॥
yaha cālīsā kṛṣṇa kā,
pāṭha kare ura dhāri।
aṣṭa siddhi navaniddhi phala,
lahai padāratha cāri॥

कृष्ण चालीसा (Krishna chalisa) भगवान विष्णु के आठवें अवतार माने जाने वाले श्री कृष्ण को समर्पित है। यह चालीस पंक्तियों का स्त्रोत है, जिसमे श्री कृष्ण की महिमा का बखान किया गया है। भगवान कृष्ण की पूजा करने वाले जातक के जीवन में खुशियां, सफलता, और शांति का प्रवाह होता है। आइये जानते हैं इस चालीसा के पाठ से व्यक्ति को और क्या-क्या लाभ होते हैं। 

कृष्ण चालीसा पाठ के फायदे 

  • कृष्ण चालीसा (कृष्ण चालीसा इन हिंदी) के नियमित पाठ से विरोधियों और शत्रुओं पर विजय प्राप्त की जा सकती है। 
  • इस चालीसा का पाठ नकारात्मक ऊर्जा और बुरी शक्तियों के प्रभाव को नष्ट करता है। 
  • पीड़ित केतु के अशुभ प्रभाव को कम करने के लिए श्री कृष्ण चालीसा का पाठ बेहद कारगर है। 
  • सुखी एवं खुशहाल शादी शुदा ज़िन्दगी के लिए भी इसका पाठ किया जाता है। 
  • कृष्ण चालीसा (Krishna chalisa in hindi) पाठ कुंडली के सप्तम भाव के अशुभ प्रभाव को भी ख़तम करता है। 
  • अगर आपकी कुंडली में निःसंतान दोष है, तो आपको इस चालीसा का पाठ करना चाहिए। 
  • संतान के उज्जवल भविष्य के लिए भी इसका पाठ किया जाता है। 
  • कृष्ण चालीसा पाठ कुंडली के पंचम भाव के अशुभ प्रभाव को भी ख़तम करता है। 
  • धन दौलत, सुख समृद्धि, और आध्यात्मिक विकास के लिए भी कृष्ण चालीसा का पाठ किया जाता है। 

कृष्ण चालीसा का पाठ किसे करना चाहिए 

ऐसे जातकों को कृष्ण चालीसा का पाठ करना चाहिए जो,

  • केतु ग्रह के बुरे प्रभावों से जूझ रहे हैं। 
  • शत्रुओं और विरोधियों से परेशान हैं। 
  • निःसंतान दोष से ग्रसित हैं। 
  • शादी शुदा ज़िन्दगी में तनाव और विरोधाभास जैसे हालात चल रहे हैं। 

कृष्ण चालीसा पाठ विधि 

कृष्ण चालीसा का पाठ अनेक प्रकार से लाभकारी है। वैसे तो पूर्ण श्रद्धा से की हुई भगवान की भक्ति एवं पूजा फलदायक ही होती है। परन्तु अगर आप विशेष फल प्राप्ति के लिए यह पाठ कर रहे हैं तो थोड़ा अधिक जतन तो आपको करना ही चाहिए। आइये जानते हैं, किस प्रकार कर सकते हैं, श्री कृष्ण चालीसा का पाठ। 

  • यह पाठ मुख्यतः प्रातः काल में किया जाता है। 
  • जिस दिन आप पाठ करना सुनिश्चित करें, सुबह जल्दी उठकर स्नान आदि करके स्वच्छ वस्त्र धारण करें। 
  • पूजा घर या किसी पवित्र कोण में एक चौकी पर लाल कपड़ा बिछाकर उस पर कन्हैया की तस्वीर या प्रतिमा स्थापित करें। 
  • धूप दीप, नैवेद्य, सुगंधित पुष्प, माखन-मिश्री, पंचामृत, गंगाजल, इत्यादि से भगवान कृष्ण की पूजा अर्चना करें। 
  • इसके बाद पूर्ण श्रद्धा से चालीसा का पाठ करें। 
  • अंत में आरती करें और भोग का प्रसाद घर में सभी को बाटें। 

इस प्रकार श्रद्धा पूर्ण तरीके से किया हुआ पाठ ज़रूर लाभदायक सिद्ध होता है। 

चालीसा पाठ के दौरान किन बातों का ध्यान रखना चाहिए 

कृष्ण चालीसा पाठ के दौरान जातक को निम्न बातों का मुख्य रूप से ध्यान रखना चाहिए –

  • मांस मदिरा का सेवन नहीं करना चाहिए। 
  • मुँह से असत्य और अपशब्द नहीं निकालना चाहिए। 
  • मन में बुरे विचार और नकारात्मकता को प्रवेश नहीं करने देना चाहिए। 
  • घर के दरवाज़े पर आने वाले भिक्षुक का निरादर कर उसे खली हाथ नहीं भेजना चाहिय्ये। 
  • असहाय और दीन हीन लोगों को नहीं सताना चाहिए। 
  • दूध और दूध से बनी वस्तुओं या खाने पीने की किसी भी पदार्थ का अपमान नहीं करना चाहिए। 
  • महिलाओं और बड़े बुज़ुर्गों का अनादर नहीं करना चाहिए। 
  • पशु पक्षियों को परेशान नहीं करना चाहिए। 

तो मित्रों, यहां हमने कृष्ण चालीसा के साथ-साथ उससे जुड़ी हुई तमाम जानकारियों को आपके साथ साझा किया है। आप हिंदीपथ पर श्री कृष्ण चालीसा का पीडीएफ फॉर्म (Krishna chalisa pdf) भी डाउनलोड कर सकते हैं। आशा करते हैं कि वासुदेव श्री कृष्ण आप सब पर अपनी कृपा दृष्टि बनाये रखें।

श्री कृष्ण की आरती पढ़ने के लिए कृपया यहाँ जाएँ – कृष्ण भगवान की आरती

विदेशों में बसे कुछ हिंदू स्वजनों के आग्रह पर कृष्ण चालीसा (Krishna Chalisa in Hindi) को हम रोमन में भी प्रस्तुत कर रहे हैं। हमें आशा है कि वे इससे अवश्य लाभान्वित होंगे। पढ़ें कृष्ण चालीसा रोमन में–

यह भी पढ़ें

संतान गोपाल स्तोत्रराधे राधे जपो चले आएंगे बिहारीश्याम तेरी बंसी पुकारे राधा श्यामबजाओ राधा नाम की तालीअरे द्वारपालों कन्हैया से कह दोश्याम तेरी बंसी पुकारे राधा नाम किशोरी कुछ ऐसा इंतजाम हो जाएछोटी छोटी गईया छोटे छोटे ग्वालगोविंद बोलो हरि गोपाल बोलोमेरा आपकी कृपा से सब काम हो रहा हैमेरे बांके बिहारी लालओ कान्हा अब तो मुरली कीभर दे रे श्याम झोली भरदेमैं हूं शरण में तेरी संसार के रचैयाकन्हैया कन्हैया पुकारा करेंगेश्री कृष्ण गोविंद हरे मुरारीगर्भ गीताकृष्ण है विस्तार यदि तो

सन्दीप शाह

सन्दीप शाह दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातक हैं। वे तकनीक के माध्यम से हिंदी के प्रचार-प्रसार को लेकर कार्यरत हैं। बचपन से ही जिज्ञासु प्रकृति के रहे सन्दीप तकनीक के नए आयामों को समझने और उनके व्यावहारिक उपयोग को लेकर सदैव उत्सुक रहते हैं। हिंदीपथ के साथ जुड़कर वे तकनीक के माध्यम से हिंदी की उत्तम सामग्री को लोगों तक पहुँचाने के काम में लगे हुए हैं। संदीप का मानना है कि नए माध्यम ही हमें अपनी विरासत के प्रसार में सहायता पहुँचा सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: यह सामग्री सुरक्षित है !!