महागौरी – Mahagauri Mata

माँ दुर्गा जी की आठवीं शक्ति का नाम महागौरी माता (Mahagauri Mata) है। इनका वर्ण पूर्णतः गौर है। इस गौरता की उपमा शङ्ख, चन्द्र और कुन्द के फूल से दी गयी है। इनकी आयु आठ वर्ष की मानी गयी है-‘अष्टवर्षा भवेद् गौरी’। इनके समस्त वस्त्र एवं आभूषण आदि भी श्वेत हैं। इनकी चार भुजाएँ हैं। इनका वाहन वृषभ है। इनके ऊपर के दाहिने हाथ में अभय-मुद्रा और नीचे वाले दाहिने हाथ में त्रिशूल है। ऊपर वाले बायें हाथ में डमरू और नीचे के बायें हाथ में वर-मुद्रा है। इनकी मुद्रा अत्यन्त शान्त है। पढ़ें महागौरी मंत्र (Mahagauri Mantra)–

महागौरी मंत्र – Mahagauri Mantra

श्वेते वृषे समारूढा श्वेताम्बरधरा शुचिः।
महागौरी शुभं दद्यान्महादेवप्रमोददा॥

माँ महागौरी की कथा

अपने पार्वती रूपमें इन्होंने भगवान् शिव को पति-रूप में प्राप्त करने के लिये बड़ी कठोर तपस्या की थी। इनकी प्रतिज्ञा थी कि ‘व्रियेऽहं वरदं शम्भुं नान्यं देवं महेश्वरात् ।’ (नारदपञ्चरात्र)। गोस्वामी तुलसीदास जी के अनुसार भी इन्होंने भगवान् शिव के वरण के लिये कठोर संकल्प लिया था

जन्म कोटि लगि रगर हमारी।
बरउँ संभु न त रहउँ कुआरी॥

इस कठोर तपस्या के कारण इनका शरीर एकदम काला पड़ गया। इनकी तपस्या से प्रसन्न और सन्तुष्ट होकर जब भगवान् शिवने इनके शरीर को गंगा जी के पवित्र जल से मलकर धोया तब वह विद्युत प्रभाव समान अत्यन्त कान्तिमान-गौर-हो उठा। तभी से इनका नाम महागौरी पड़ा।

दुर्गा पूजा के आठवें दिन महागौरी की उपासना का विधान है। इनकी शक्ति अमोघ और सद्य: फलदायी है। इनकी उपासना से भक्तों के सभी कल्मष धुल जाते हैं। उसके पूर्वचित पाप भी विनष्ट हो जाते हैं। भविष्य में पाप-संताप, दैन्य-दुःख उसके पास कभी नहीं आते। वह सभी प्रकार से पवित्र और अक्षय पुण्यों का अधिकारी हो जाता है।

माँ महागौरी का ध्यान-स्मरण, पूजन-आराधन भक्तों के लिये सर्वविध कल्याणकारी है। हमें सदैव इनका ध्यान करना चाहिये। इनकी कृपा से अलौकिक सिद्धियों की प्राप्ति होती है। मन को अनन्यभाव से एकनिष्ठ कर मनुष्य को सदैव इनके ही पादारविन्दों का ध्यान करना चाहिये। ये भक्तों का कष्ट अवश्य ही दूर करती हैं। नवरात्रि में आठवें दिन (Navratri day 8) इनकी उपासना से आर्तजनों के असम्भव कार्य भी सम्भव हो जाते हैं । अतः इनके चरणों की शरण पाने के लिये हमें सर्वविध प्रयत्न करना चाहिये। पुराणों में इनकी महिमा का प्रचुर आख्यान किया गया है। ये मनुष्य की वृत्तियों को सत्की ओर प्रेरित करके असत्का विनाश करती हैं। हमें प्रपत्ति भाव से सदैव इनका शरणागत बनना चाहिये।

महागौरी माता की फोटो – Mahagauri Mata Ki Photo

महागौरी माता का चित्र - Mahagauri Mata Image

अन्य नवदुर्गाओं के बारे में पढ़ें

नवदुर्गा मुख्य-पृष्ठशैलपुत्रीब्रह्मचारिणी
चंद्रघंटाकूष्माण्डास्कंदमाता
कात्यायनीकालरात्रिसिद्धिदात्री

सन्दीप शाह

सन्दीप शाह दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातक हैं। वे तकनीक के माध्यम से हिंदी के प्रचार-प्रसार को लेकर कार्यरत हैं। बचपन से ही जिज्ञासु प्रकृति के रहे सन्दीप तकनीक के नए आयामों को समझने और उनके व्यावहारिक उपयोग को लेकर सदैव उत्सुक रहते हैं। हिंदीपथ के साथ जुड़कर वे तकनीक के माध्यम से हिंदी की उत्तम सामग्री को लोगों तक पहुँचाने के काम में लगे हुए हैं। संदीप का मानना है कि नए माध्यम ही हमें अपनी विरासत के प्रसार में सहायता पहुँचा सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: यह सामग्री सुरक्षित है !!