रामायण हिंदी में – Ramayan In Hindi

हिंदी रामायण पर अपनी यह परियोजना आरम्भ करते हुए हमें बहुत प्रसन्नता का अनुभव हो रहा है। संपूर्ण वाल्मीकि रामायण, तुलसी रामायण अर्थात रामचरित मानस, अध्यात्म रामायण, कंबन रामायण आदि जितनी भी भिन्न-भिन्न तरह की राम कथाएँ प्रचलित हैं, इस परियोजना के अन्तर्गत हम उन्हें हिंदी खड़ी बोली के अर्थ के साथ जन-जन तक पहुँचाना चाहते हैं।

इसी कड़ी में हम सबसे पहले वाल्मीकि रामायण को हिंदी पथ पर प्रकाशित करना आरम्भ कर रहे हैं। हमें उम्मीद है कि सभी रामभक्त सुधी पाठक रामायण के अमृत का पान कर अवश्य आनन्दित होंगे–

यह भी पढ़ें – रामायण मनका 108

महर्षि वाल्मीकि कृत रामायण की विषय-सूची

  1. वाल्मीकि रामायण का पाठ कैसे करें – जानें शास्त्रीय विधि

रामायण का महत्व

  1. रामायण के पाठ की महिमा – कल्प का अनुकीर्तन
  2. रामायण की कथा सुनने से राक्षस का उद्धार
  3. माघ मास में रामायण सुनने का फल
  4. चैत्र मास में रामायण के पठन और श्रवणका माहात्म्य
  5. रामायण के नवाह श्रवणकी विधि, महिमा तथा फलका वर्णन

सर्ग – बाल-काण्ड

  1. बाल-काण्ड
  2. अयोध्याकाण्ड
  3. अरण्यकाण्ड
  4. किष्किन्धाकाण्ड
  5. सुन्दरकाण्ड
  6. युद्धकाण्ड
  7. उत्तरकाण्ड

प्रयत्न है कि शीघ्र ही आप यहाँ रामायण की निःशुल्क पीडीएफ भी प्राप्त कर सकें जिसे डाउनलोड किया जा सकता हो। अभी केवल महर्षि वाल्मीकि कृत रामायण के बालकांड से आरंभ किया है। जल्दी ही आपको रामायण के सभी सर्ग प्राप्त होंगे तथा रामचरित मानस सहित अन्य राम कथाएँ भी यहाँ उपलब्ध होंगी।

रामायण की महिमा 

रामायण नाम और उसकी महिमा से शायद ही कोई मनुष्य अपरिचित होगा। हिन्दू धर्म में दो महान ग्रन्थ हैं, रामायण उनमें से एक है। रामायण एक अत्यंत ही पवित्र ग्रंथ है- जिसमें भगवान राम, सीता, और हनुमान सहित त्रेता युग के समस्त किरदारों की चर्चा हुई है। इसकी रचना महर्षि वाल्मीकि द्वारा हुई थी। 

यह ग्रन्थ कर्तव्य, सिद्धांत, सम्मान, धर्म, भक्ति, दर्शन, राजनीति आदि का सम्पूर्ण सम्मिश्रण है। इसमें परिवार, रिश्तों के महत्त्व, बड़ों का आदर, और सारे पारिवारिक महत्त्व को बहुत सुन्दर तरीके से दर्शाया गया है। कहते हैं रामायण पाठ (Ramayan ka paath) करने से व्यक्ति के जीवन के सभी पाप धुल जाते हैं। परंतु इसे (Ramayan in hindi) पढ़ना इतना सरल नहीं है। इसके लिए नियमों और रामायण पढ़ने का सही समय का विशेष ध्यान रखना होता है। 

अखंड रामायण पाठ का महत्व 

अखंड रामायण पाठ (Ramayan path) का मूल यह है कि बिना रुके लगातार श्री रामचरितमानस का पाठ करना। सम्पूर्ण रामायण (संपूर्ण रामायण पाठ हिंदी में) को 7 भागों में विभाजित किया गया है, जो इस प्रकार हैं- बालकाण्ड (रामायण का पहला पाठ), अयोध्याकाण्ड, अरण्यकाण्ड, किष्किन्धाकाण्ड, सुन्दरकाण्ड, लंकाकाण्ड, और उत्तरकांड। हिन्दू धर्म में अखंड रामायण का पाठ बहुत पवित्र, लाभदायक, और मोक्ष दिलाने वाला होता है। इसका पाठ करने से व्यक्ति के जीवन और सुख-समृद्धि के मार्ग पर आने वाली सभी अड़चनों का ख़ात्मा होता है। 

रामायण पाठ का लाभ 

  • रामायण (Ramayan hindi mein) का पाठ करने वाले जातक को मोक्ष की प्राप्ति होती है, और साथ ही जन्म-मरण की प्रक्रिया से मुक्ति मिलती है। 
  • जहाँ भी रामायण का पाठ होता है, वहाँ का माहौल बहुत दिव्य और चमत्कारी हो जाता है। 
  • किसी भी अच्छी और नई शुरुआत जैसे गृह प्रवेश, शादी इत्यादि से पहले रामायण (रामायण पाठ हिंदी में) का पाठ शुभ माना जाता है। 
  • व्यापार और नई संधियों के लिए भी इसके (रामायण हिंदी में) पाठ से सफलता मिलती है। 
  • परिवार में सुख-शांति, खुशियां और आपसी समझ लाने के लिए भी रामायण पाठ महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। 
  • भगवान राम के साथ-साथ उनके परम भक्त हनुमानजी का भी आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए रामायण का पाठ अच्छा स्रोत होता है।  
  • व्यक्ति के जीवन में सच्चाई, अच्छाई, और साहस का समागम होता है। 
  • इसका पाठ मनुष्य के जीवन से नकारात्मक ऊर्जा को दूर करके सकारात्मक ऊर्जा का संचार करता है। 

रामायण हिंदी में पढ़ने के लिए आप हिंदीपथ की सहायता ले सकते हैं। यहाँ हम आपके लिए धीरे-धीरे करके सम्पूर्ण रामायण प्रस्तुत करेंगे। रामायण पढ़ने का सही तरीका (Ramayan kaise padhe) हमने हिंदीपथ के माध्यम से आप लोगों के साथ पहले ही साझा किया है, आप वहाँ से इसे जान सकते हैं।

एक अमेज़न एसोसिएट के रूप में उपयुक्त ख़रीद से हमारी आय होती है। यदि आप यहाँ दिए लिंक के माध्यम से ख़रीदारी करते हैं, तो आपको बिना किसी अतिरिक्त लागत के हमें उसका एक छोटा-सा कमीशन मिल सकता है। धन्यवाद!

सन्दीप शाह

सन्दीप शाह दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातक हैं। वे तकनीक के माध्यम से हिंदी के प्रचार-प्रसार को लेकर कार्यरत हैं। बचपन से ही जिज्ञासु प्रकृति के रहे सन्दीप तकनीक के नए आयामों को समझने और उनके व्यावहारिक उपयोग को लेकर सदैव उत्सुक रहते हैं। हिंदीपथ के साथ जुड़कर वे तकनीक के माध्यम से हिंदी की उत्तम सामग्री को लोगों तक पहुँचाने के काम में लगे हुए हैं। संदीप का मानना है कि नए माध्यम ही हमें अपनी विरासत के प्रसार में सहायता पहुँचा सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: यह सामग्री सुरक्षित है !!