अकबर बीरबल की कहानी – Akbar Birbal Ki Kahani

ऐसा शायद ही कोई हो जिसने कभी अकबर बीरबल की कहानी न सुनी हो। अकबर बीरबल की कहानियां न केवल मशहूर हैं, बल्कि हास्य और शिक्षा से परिपूर्ण भी हैं। इन कथाओं की विशेषता यह है कि प्राचीन पंचतंत्र की ही तरह ये कहानियाँ भी आपको जीवन के विभिन्न आयामों से परिचित कराती हैं, साथ ही हर कहानी में गहरी सीख भी निहित होती है। हिंदी-भाषी क्षेत्रों में अकबर बीरबल के किस्से बड़े चाव से सुने-सुनाए जाते हैं। बादशाह जहाँ अपनी न्यायप्रियता के लिए प्रसिद्ध थे, वहीं उनके नवत्नों में से एक बीरबल अपनी तीव्र बुद्धि और वाक्-चातुर्य के लिए जाने जाते हैं। जब दोनों की ये ख़ूबियाँ मिलीं, तो उनसे अनेक अकबर बीरबल के चुटकुले और लोकप्रिय कहानियों का जन्म हुआ। हम यहाँ पंडित रामानन्द द्विवेदी की “अकबर बीरबल विनोद” नामक पुस्तक से ऐसी तमाम कथाएँ लेकर प्रस्तुत हुए हैं, जो आपके जीवन को अधिक विनोदपूर्ण तो बनाएंगी ही, साथ ही आपको सरलता से आपको कई जीवन की शिक्षाएँ भी प्राप्त होंगी।

Someone once told me in Hindi, “Agar aap jeevan ki seekh light-hearted way me samajhna chahte hain, toh har Akbar Birbal ki kahani zarur padhiye.” It means–if you want to understand life deeply in a light-hearted way, you should read all of Akbar Birbal stories. And, indeed, it’s so true. In Hindi heartland, “Akbar Birbal ke chutkule” and “Akbar Birbal kahani” form many idioms till day. We’ve brought you many such Akbar Birbal ki kahani in Hindi here, so that you can also enjoy the wit and laughter these stories present.

पढ़ें अकबर बीरबल की कहानी – विषय सूची
Read Akbar Birbal Ki Kahani – Index

  • अकबर बीरबल के किस्से – भूमिका
  • और क्या! फुर्र…
  • बादशाह का तोता
  • बैल का दूध
  • पण्डित की पदवी
  • दो पड़ोसिनें
  • ग़ुलाम को मार डाल
  • मोती की खेती
  • बादशाह का मूल्य
  • नया कौतुक
  • पहले जन्म की वार्ता
  • घी का व्यवसाय
  • आधी दूर धूप, आधी दूर छाया
  • अधर महल
  • सेर भर मांस
  • न स्त्री है, न पुरुष
  • चार मूर्ख
  • बीरबल की चतुरता
  • अपनी मनमानी दूंगा
  • बीरबल और मदिरा
  • शिर के बाल मुड़वा दूंगा
  • सन्देह की निवृत्ति
  • बीरबल गाय राँधत
  • सब का ध्यान आपकी तरफ था
  • सच्चे झूठे का भेद
  • चुप्पा सब से भला
  • सौवाँ अंश
  • अधिकतर प्रिय क्या है
  • मिश्री के डेली का हीरा
  • नकली बीरबल
  • खुदा को अक्ल से पहचान करो
  • शीशे में छाया चित्र
  • नया दीवान
  • ताक वाला सेव और पाखाने का देव
  • दर्पण में मोहरें
  • बुलाता आ
  • रूपचन्द और फूलचन्द जौहरी
  • सब सयानों का एक मत
  • थोड़ा और बहुत
  • धुधची की माला
  • बीरबल के कुटुम्ब की परीक्षा
  • मित्र मित्र में ईर्षा
  • मट्टीचूस का द्रव्य
  • जलकुण्ड में बरहमन
  • मुल्ला की पगड़ी
  • एकान्तवास की व्याख्या
  • बीरबल की कुरूपता
  • चतुर माँ के सुपूत
  • गौ की महिमा
  • यकीनशाह पीर
  • कौन सा अच्छा
  • गरीब की आह
  • जूते की मार
  • गद्दी पर पाखाना
  • भख मार रहे हैं
  • काली ही न्यामत है
  • और क्या कढ़ी
  • माला दे
  • भाग्य बड़ी है कि उद्योग
  • बादशाह और कवि गंग
  • सब से प्यारी बस्तु
  • दीवान और काना नाई
  • सौ गायों के एकमात्र अधिपति आप हो हैं
  • गरीब लड़की वेश्या के घर
  • महाकाली के ठहे
  • हम दोनों एक साथ आवेंगे
  • सुनार के हथकोड़े
  • व्यसनी की लत
  • लोहा और पारश का स्पर्श
  • तुम बड़े गदहे हो
  • दीपक तले अंधेरा
  • बादशाह के चार प्रश्न
  • शाही रामायण
  • केवल लोटा न था
  • कौन ऋतु सर्वोत्तम है
  • पीर, बावर्ची, भिश्ती, खर
  • बनस्पति का बीज
  • हौज के अण्डे
  • कोई धनी और कोई दरिद्र क्यों होता है
  • अब मैं उसको भूल गया
  • बीरबल को कुत्तों की हाकिमी
  • एक हजार जूते
  • चोर की दाढ़ी में तिनका
  • सोया सो खोया
  • मूर्ख से पाला पड़े तो चुप रहना
  • बादशाह का नाखून
  • योगी का भेष
  • बीरबल की धर्म-रक्षा
  • एक कृपिण पुरुष
  • लकीर छोटी हो गई
  • ब्राह्मणी पर मांसखोरी का अभियोग
  • खटिक और तेली
  • दौलत ड्योढ़ी पर हाजिर है
  • बादशाह के साले को दीवान की पदवी
  • साई की बदनीयती
  • बीरबल को मुँह पीछे गालियाँ
  • अब तो आन पड़ी है
  • भंगी मुसलमान नहीं होते
  • अजीब तरह की पहेली
  • अप्सरा और पिशाचिन
  • दादः हुजूरस्त
  • मित्र का मित्र से विश्वासघात
  • बादशाह को ठग लिया
  • तोर में मोर
  • नहिं राँचे रहिमान
  • लड़का रो रहा था
  • असल का कम-असल, कम-असल का असल, बाजार का कुत्ता और गद्दी का गधा
  • काजी की बददियानती
  • आगे होकर मरवाइयेगा
  • ऊँट की गर्दन टेढ़ी क्यों है
  • अब किस पर चढ़ेगे
  • पारस से बीरबल की समता
  • मानो चन्द्र को चीर कुसूम चुवायो
  • सूर और कादर
  • जड़ वृक्ष की शाक्षी
  • हँसना अथवा रोना
  • दो गधों का बोझ
  • मैं ब्राह्मण बनूंगा
  • शिकार में दिल चस्पी
  • बेगम का कोप
  • दिल्ली के कौवों की गणना
  • औसान सञ्चा है
  • अकबर भारत
  • मणिपुराधीश द्वारा बीरबल के न्याय की परीक्षा
  • चञ्चल नैन छिपै न छिपाये
  • टूटे-फूटे सड़े को कैसी विधि सराहिये
  • केहि कारण डोल में हालत पानी
  • केहि कारण प्रात बफात है पानी
  • न्याय की घंटी
  • मुझको हँसा दो
  • स्वप्न का भावार्थ
  • अन्धकार
  • चार प्रश्नों का एक उत्तर
  • अंगुली का संकेत
  • सबसे बड़ा कौन
  • राजा, लड़का, फूल और दाँत किसके किसके बड़े हैं और गुण कौन सा बड़ा है
  • बीरबल को सजा
  • हाथी का पैर और कुँए का विवाह
  • बाजार को खाद, हाथ की मणी, नरक का मार्ग, ब्यापार की नाक और आँख रहते अंधा
  • आधा आपका
  • उत्तम जल किस नदी का है
  • आमका छिलका
  • बाग और जंगली पेड़ों में अन्तर
  • हाथ के कंकन और दाढ़ी के बाल
  • फाँसी से मुक्त कर दो
  • पाखाने में चित्र
  • शायद कोई पढ़ा चढ़ गया
  • यहाँ है, वहाँ नहीं, यहाँ नहीं पर वहाँ है, यहाँ वहाँ दोनों जगह नहीं है और यहाँ वहाँ दोनों जगह है
  • हुजूर गधे आ रहे हैं
  • यह तो हमारा ही है
  • बारह में से चार गये
  • दो मास का एक मास
  • खुरा वा नाखुश
  • आपही बादशाह कैसे होते
  • जो ईश्वन न करे उसे मैं करूँ
  • आम की चोरी
  • कुरान की बे नुकते वाली टीका
  • जोका का न्याय
  • चतुर और भुग्गा
  • आप मुझको चाटते थे और मैं आपको चाट रहा था
  • कौन सुखी है
  • निकस्यो रवि फोड़ पहाड़ की ताई
  • बेटी दे दो पोती दिला दो
  • दण्ड वा पुरस्कार
  • देने वाले का हाथ नीचा
  • स्वर्ग और नरक
  • वख्तर की परीक्षा
  • सबसे उज्ज्वल क्या
  • प्राकृतिक और कृत्रिम
  • मेरी धरती पर पैर न रखना
  • आकाश के तारों की गणना
  • मूखों की फेहरिस्त
  • हथेली पर बाल क्यों नहीं उगता
  • नाव लाने दो
  • सुन्दर बच्चा किसका
  • विचारे जूतों के मारे खड़े हैं
  • मोम निर्मित शाहजादा
  • गऊ के चमड़े का जूता
  • आधा बाहर आधा भीतर
  • नदी रोती क्यों है
  • जाड़ा कितना
  • इस समय कौन चलता है
  • राम के बदले मेरा नाम लिखों
  • पूर्णिमा का चन्द्रमा
  • कृतघ्न और कृतज्ञ
  • दुनियाँ में स्त्रियों की संख्या अधिक है बा पुरुषों की
  • खिजाब लगाने वालों को दिमाग नहीं होता
  • गधा तम्बाकू नहीं खाता
  • बैंगन की भाँजी
  • पाद और दस्त
  • हाथन के छूये कोऊ बेरहू न खायगो
  • एक अंडुवा दूसरे मालजादी
  • सड़क किस तरफ जाती है
  • फूलकर चगत्ता हो गया
  • दूध भाई
  • हाँ मिहर्वान
  • नौकर ने चूना खाया
  • सत्ताईस में से नौ गये बाकी बचा कुछ नहीं
  • सूर्य पश्चिम में ही क्यों छिपता है
  • इतने पैर पसारिये जितनी चादर होय
  • पूर्व जन्म का निर्णय
  • हई की चोरी
  • आँखों देखी बात झूठी हो सकती है
  • चोर पकड़ने की युक्ति
  • बलात्कार
  • हमारा पैर अधिक सुन्दर है

We hope that you will enjoy these Akbar Birbal stories in Hindi. Also, each of these stories contain a lot of insight in human nature. So, try and assimilate these nuggets of wisdom in your life. Each Akbar Birbal kahani is a gem in itself and can teach you important lessons. Do leave a comment if you like and appreciate these stories.

प्रत्येक अकबर बीरबल की कहानी ख़ुद में एक शिक्षा समेटे हुए है, जो आपके जीवन में काम आ सकती है। साथ ही आप यहाँ दोनों के बीच के संबंध और विश्वास को भी गहराई से देख सकते हैं। इन कथाओं से आप तत्कालीन परिस्थितियों और समाज की झलक भी पाएंगे। इस दृष्टिकोण से ये किस्से बहुत महत्वपूर्ण हो जाते हैं। अकबर बीरबल की कहानियां हास्यबोध से भी परिपूर्ण हैं; अतः पढ़ने में बहुत ही रुचिकर प्रतीत होती हैं। कोई भी व्यक्ति जब इन्हें एक बार पढ़ना शुरू करता है, तो पढ़ता ही चला जाता है। यही इन कथाओं की ताक़त है।

सो एंजॉय एवरी अकबर बीरबल स्टोरी टू फ़ुलेस्ट! 🙂

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *