लौंग खाने के फायदे – Long Ke Fayde

इस लेख में पढ़ें लौंग खाने के फायदे और लाभ उठाएँ इस अद्भुत वस्तु का। लौंग अपने आप में एक चमत्कारी औषधि है, जिसके अनगिनत उपयोग हैं। यहाँ हम चर्चा कर रहे हैं लौंग के कुछ मुख्य गुणों की, जो आपके स्वास्थ्य को ठीक रखने तथा रोगों के उपचार में काफ़ी कारगर साबित होते हैं।

सर्दियों में लौंग, अदरक, इलायची की चाय तो सबको अच्छी लगती है। साबुत गर्म मसालों में एक लौंग भी आती है। कहते हैं कि इसे हमारे देश में सर्वप्रथम अंग्रेज़ लेकर आये थे। हमारे देश के केरल, तमिलनाडु और कर्नाटक के पहाड़ी इलाक़ों की जलवायु लौंग के उत्पादन के लिए एकदम उपयुक्त थी, इसीलिए ईस्ट इण्डिया कंपनी ने व्यापार की दृष्टि से बड़े पैमाने पर इसकी खेती की।

लौंग के पेड़ की ऊंचाई 40 फ़ीट तक होती है। पेड़ के तने से लेकर पत्ते और टहनियाँ तक पूरा पेड़ सुगंधित होता है। इसलिए जहाँ लौंग उगाई जाती है, वहाँ दूर-दूर तक लौंग की महक फैली रहती है। लौंग की इसी सुमधुर सुगंध के कारण प्राचीन चीन के लोग राजा के सामने जाने से पहले लौंग मुँह में रख लेते थे।

इसके जिस रूप का उपयोग हम करते हैं दरअस्ल वो लौंग की कली होती है, जो सूखकर भूरे रंग की हो जाती है। प्रकृति में गर्म होने के कारण सर्दियों में लौंग का अधिक प्रयोग होता है। लौंग कई रोगों के घरेलू नुस्खे में प्रयोग होती है। दादी-नानी से अक्सर आपने सुना होगा कि लौंग का फूल दाँतों के बीच रखने से दाँत के दर्द से आराम मिलता है।

लौंग खाने के फायदे तो बहुत सारे हैं जिनसे घर बैठे कई बीमारियों का इलाज हो सकता है। अपने इस लेख में हम आपको लौंग के अनेक लाभकारी गुणों की जानकरी देंग, जिनसे आप छोटी-मोटी स्वास्थ्य समस्याओं का समाधान चुटकी बजाते ही पा सकते हैं। हाँ, पूर्णतः स्वस्थ रहने के लिए साथ में भोजन संबंधी अच्छी आदतें अपनाना न भूलें। तो आइए जानते है लौंग खाने के और क्या-क्या लाभ हैं।

एक शक्तिशाली रोग प्रतिरोधक

लौंग में एल्फा टोकोफेरोल नाम का तत्त्व पाया जाता है जिसे हम विटामिन ए के नाम से भी जानते हैं। इसके अतिरिक्त विटामिन के, मैग्नीशियम और लौह तत्वों से भरपूर होती है लौंग। लौंग के अंदर पाए जाने वाले ये सारे तत्त्व इसे एक शक्तिशाली इम्यूनिटी बूस्टर बनाते हैं। इसमें फाईबर भी खूब पाया जाता है।

इसकी एक-दो कलियाँ चाय में डालकर पीने से आप सर्दी, खाँसी और ज़ुखाम से बचे रहेंगे। छोटे बच्चों को गर्म दूध में थोड़ा-सा लौंग का चूर्ण डालकर देने से लाभ होगा। खांसी होने पर शहद और अदरक के रस में मिलाकर इसका चूर्ण बनाकर चाटने से लाभ होगा।

लौंग एक शक्तिशाली एंटीवायरल और एंटी-माइक्रोबाईयल भी है। इसलिए लौंग का सेवन आपको बरसात के मौसम में होने वाले कई तरह के वायरल रोगों से बचाता है।

गले की ख़राश और बंद नाक में दिलाए राहत

सर्दियों में जुक़ाम और खांसी एक आम समस्या है और अक्सर नाक बंद होने पर साँस लेने में दिक्कत आती है। ऐसे में लौंग की भाप लेने से काफ़ी आराम मिलता है।

  • लौंग के तेल की कुछ बूंदें गर्म पानी में डालकर भाप लेने से बंद नाम खुल जाती है। लौंग का तेल नहीं है तो लौंग की दो-चार कलियों को दो गिलास पानी पानी में उबालकर उपयोग करें।
  • एक गर्म तौलिए से चेहरे और सर को अच्छी तरह से ढँककर लौंग के पानी की भाप लें।
  • दिन में दो-से-तीन बार जब भी ज़रूरत हो, ये उपाय करें।
  • दो चुटकी लौंग का चूर्ण और आधा छोटा चम्मच हल्दी एक कप पानी में डालकर उबालकर इस पानी को पीने से गले के दर्द में आराम मिलेगा।

लौंग दिलाए दाँतों और मसूड़ों के दर्द से राहत

दांत-दर्द के सबसे प्रचलित घरेलू उपाय के तौर पर लौंग का प्रयोग सदियों से होता रहा है। लौंग में यूजिनोल नाम का कंपाउंड होता है जो एक शक्तिशाली दर्दनिवारक है। आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति में दांतों की देखभाल के लिए लौंग मुख्य रूप से प्रयोग की जाती है।

  • दाँत-दर्द में लौंग के तेल का फाहा दाँतों के बीच रखें। इसके तेल से मसूड़ों की हल्की-हल्की मालिश करें।
  • लौंग के तेल के स्थान पर साबुत लौंग का प्रयोग भी कर सकते हैं।
  • लौंग का स्वाद बहुत तीखा होता है, इसलिए छोटे बच्चों पर यह प्रयोग ना करें।
  • मुँह की बदबू से छुटकारा पाने के लिए रोज़ाना लौंग का एक फूल चूसें। लौंग के एंटी-बैक्टीरियल गुण हानिकारक बैक्टीरिया को पनपने से रोकते हैं, जिससे दांत और मसूड़े स्वस्थ रहते हैं और मुंह की दुर्गन्ध भी दूर होती है।

गले के दर्द और खांसी में लौंग खाने के फायदे

लौंग के फायदे की बात हो, तो गले के दर्द में इसके लाभ की चर्चा भी आवश्यक है। इसका सेवन गले को अंदर से ऊष्मा देता है, इसलिए ठंड से होने वाली खांसी और गले के दर्द में लौंग की दो कलियों को पीसकर उसे एक चम्मच शहद में मिलाकर खाने से लाभ होगा। यह प्रयोग आप सर्दियों में रोज़ाना कर सकते हैं। छोटे बच्चों को भी लौंग और शहद खाने से खाँसी में आराम मिलेगा।

यह भी पढ़ें – मेथी के फायदे

सर के दर्द में लौंग का उपयोग

  • थोड़ी-सी लौंग गर्म करके एक कपड़े में बाँधकर पुट्टी बना लें। थोड़ी-थोड़ी देर बार इसे सूंघते रहें।
  • माईग्रेन के दर्द से शीघ्र राहत पाने के लिए माथे पर लौंग के तेल की मालिश करें।

दर्द-नाशक लौंग

कई बार चोट लगने शरीर में अंदरूनी घाव हो जाता है, जिससे काफ़ी दर्द की अनुभूति होती है। इससे निजात पाने के लिए गर्म तवे पर लौंग को सेंककर उसे एक सूती रूमाल में बांध लें। चोट वाले स्थान पर लौंग की गर्म पुट्टी से सिकाई करने पर दर्द में काफी आराम मिलेगा और अंदरूनी सूजन भी कम होगी। इसको पानी के साथ उबाल कर गर्म पानी की सिकाई करने से जोड़ों का दर्द काफी हद तक दूर होता है।

उल्टी और जी मिचलाने पर

  • थोड़ी-सी पिसी हुई लौंग में एक चम्मच शहद और कुछ बूंदें नींबू के रस की मिलाकर चाटने से उल्टी में तुरंत राहत मिलेगी।
  • लौंग के सेवन से आमाशय के पाचक रस जाग्रत होते हैं, जिससे भूख खुल जाती है।
  • पेट फूलने की समस्या हो या खाना ना पचता हो तो हर्रे की एक छोटी जड़ी को पीसकर उसमें दो लौंग डालें और एक कप पानी में उबालकर पिएँ।

पुरुषों के लिए लौंग लाभ

लौंग में फेनोलिक नाम का एक कंपाउंड पाया जाता है, जो सबसे उत्तम एंटी-ओक्सिडेंट तत्व है। स्टेमिना बढ़ाने में लौंग अत्यंत लाभकारी है। लौंग को तुलसी और पुदीना के पत्तों के साथ उबालकर पीने से पलभर में थकावट दूर हो जाती है और शरीर में ताज़गी आती है। पुरुषों में अत्यधिक तनाव के कारण होने वाली शारीरिक शक्ति की कमी दूर करने में लौंग कारगर उपाय है। सोते समय गुनगुने दूध में थोड़ा-सा लौंग चूर्ण मिलाकर पीने से भी तनाव दूर होता है और ताकत मिलती है।

मेटाबोलिज्म रखे फिट

फैटी लिवर के रोगियों को लौंग के सेवन से फायदा होता है। लिवर को स्वस्थ रखने के लिए नियमित लौंग या लौंग के तेल का इस्तेमाल करें। इसके तेल की कुछ बूंदें सलाद ड्रेसिंग के रूप में प्रयोग करें या दाल, सब्जी में मिलाकर खाएँ। लौंग मेटाबोलिज्म को बढ़ाने में मददगार है, इसलिए जो लोग वज़न कम करना चाहते हैं उन्हें उचित मात्रा में इसका नियमित सेवन करना चाहिए।

यह भी पढ़ें – एलोवेरा के फायदे

पेट दर्द में लौंग खाने के फायदे

पेट के दर्द को दूर करने में भी लौंग बहुत उपयोगी है। इसका काढ़ा या चाय पीने से पेट के दर्द से जल्द राहत मिलती है। साथ ही समय-समय पर लौंग खाने से पेट के अंदर के छोटे-छोटे कीड़ों का नाश होता है। कह सकते हैं कि पेट के कृमियों को मारने का यह प्राकृतिक तरीक़ा है।

कील-मुंहासों से छुटकारा

एंटी-फंगल, एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-इन्फ्लेमेटरी गुणों से भरपूर लौंग त्वचा के लिए बेहद अच्छी मानी जाती है।

  • त्वचा में कसावट लाने के लिए लौंग के तेल को बादाम के तेल के साथ मिलाकर सोते समय लगाएँ।
  • मुँहासों पर लौंग के तेल का फाहा रखें। कुछ ही दिनों में मुहांसे सूखने लगेंगे।
  • लौंग को पीसकर दही में मिलाकर लेप लगाने से त्वचा स्वस्थ और चमकदार बनती है।

एक असरदार कीटनाशक

क्या आप जानते है लौंग की तेज़ गंध और तीखा स्वाद इसे एक प्रभावशाली कीट-नाशक बनाते हैं। बरसात के मौसम में कीड़े-मकोड़ों की समस्या से छुटकारा पाने के लिए आप लौंग का प्रयोग कर सकते हैं।

  • लौंग की चार-पांच कलियों को गोबर के उपलों पर रखकर जलाने से मच्छर भाग जायेंगे।
  • बरसाती कीड़े और चीटियों से छुटकारा पाने के लिए पानी में लौंग के तेल की बूंदें डालकर पोंछा लगाएँ।

डाईबिटीज़ में लाभ

लौंग खाने के फायदे डाइबिटीज़ के रोगियों की मदद कर सकते हैं। दरअस्ल, यह शरीर की इन्सुलिन को नियंत्रित करने में सहायक है, इसलिए इसका रोज़ाना सेवन मधुमेह के रोगियों के लिए लाभदायक है।

लौंग खाने के नुकसान

जी हाँ, आपने ठीक पढ़ा। लौंग खाने के नुकसान भी हैं–अगर इसका ठीक तरह से उपयोग न किया जाए तो। लौंग निश्चय ही बहुत गुणकारी है, परंतु इसकी गर्म तासीर की चलते इसका अधिक सेवन लाभ के बदले हानि दे सकता है। जिन लोगों का पित्त बढ़ा हुआ रहता है, उन्हें लौंग कम मात्रा में खानी चाहिए। गर्भवती स्त्रियों को भी गर्भ के आरंभिक दिनों में लौंग अधिक मात्रा में सेवन नहीं करना चाहिए।

इस लेख में हमने आपको लौंग खाने के जितने भी फायदे बताए है, सब पूरी तरह आजमाए हुए है और लाभदायक है। हम आशा करते है कि आप लौंग के इन प्रयोगो से अवश्य ही लाभान्वित होंगे।

ममता रैना

ममता रैना दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातक हैं। वे सात वर्षों से लेखन के क्षेत्र में सक्रिय हैं तथा उनके लेख विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होते रहते हैं। ममता का मानना है कि एक अच्छा लेखक होने के लिए अच्छा पाठक होना बेहद ज़रूरी है। साथ ही वे लेखन के लिए अपने आस-पास हो रही घटनाओं के प्रति संवेदनशीलता को आवश्यक मानती हैं। वे हिंदीपथ.कॉम पर लगातार सक्रिय हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: यह सामग्री सुरक्षित है !!