कथा प्रवेश (पौलोम पर्व) – चतुर्थ अध्याय – Mahabharat Katha Pravesh

“कथा प्रवेश” नाम से ही स्पष्ट है कि यहाँ से महाभारत की कथा आरंभ होती है। अधिकांश पुराणों की तरह ही ऋषि-मुनियों के सत्र में इस चर्चा का शुभारम्भ होता है। कथा प्रवेश नामक इस अध्याय में १२ श्लोक हैं। महाभारत कथा के अन्य अध्याय पढ़ने के लिए कृपया यहाँ जाएँ – संपूर्ण महाभारत हिंदी में

यह अध्याय आदि पर्व के अन्तर्गत पौलोम पर्व का प्रथम अध्याय है। इस अध्याय में उग्रश्रवा ऋषि जब अन्य ऋषियों से पूछते हैं कि वे क्या सुनना चाहते हैं, तो ऋषि-गण शौनक जी के आने तक रुकने का अनुरोध करते हैं। साथ ही वे कहते हैं कि शौनक जी ही यह निर्णय करेंगे कि क्या कथा आरंभ हो। इस तरह होता है महाभारत कथा प्रवेश।

लोमहर्षणपुत्र उग्रश्रवाः सौतिः पौराणिको नैमिषारण्ये शौनकस्य कुलपतेर्द्वादशवार्षिके सत्रे ऋषीनभ्यागतानुपतस्थे ⁠॥⁠ १ ⁠॥
नैमिषारण्यमें कुलपति शौनकके बारह वर्षोंतक चालू रहनेवाले सत्रमें उपस्थित महर्षियोंके समीप एक दिन लोमहर्षणपुत्र सूतनन्दन उग्रश्रवा आये। वे पुराणोंकी कथा कहनेमें कुशल थे ⁠॥⁠ १ ⁠॥

पौराणिकः पुराणे कृतश्रमः स कृताञ्जलिस्तानुवाच ⁠। किं भवन्तः श्रोतुमिच्छन्ति किमहं ब्रवाणीति ⁠॥⁠ २ ⁠॥
वे पुराणोंके ज्ञाता थे। उन्होंने पुराणविद्यामें बहुत परिश्रम किया था। वे नैमिषारण्यवासी महर्षियोंसे हाथ जोड़कर बोले—‘पूज्यपाद महर्षिगण! आपलोग क्या सुनना चाहते हैं? मैं किस प्रसंगपर बोलूँ?’ ⁠॥⁠ २ ⁠॥

तमृषय ऊचुः परमं लौमहर्षणे वक्ष्यामस्त्वां नः प्रतिवक्ष्यसि वचः शुश्रूषतां कथायोगं नः कथायोगे ⁠॥⁠ ३ ⁠॥
तब ऋषियोंने उनसे कहा—
लोमहर्षणकुमार! हम आपको उत्तम प्रसंग बतलायेंगे और कथा-प्रसंग प्रारम्भ होनेपर सुननेकी इच्छा रखनेवाले हमलोगोंके समक्ष आप बहुत-सी कथाएँ कहेंगे ॥⁠ ३ ⁠॥

तत्र भगवान् कुलपतिस्तु शौनकोऽग्निशरणमध्यास्ते ⁠॥⁠ ४ ⁠॥
किंतु पूज्यपाद कुलपति भगवान् शौनक अभी अग्नि की उपासनामें संलग्न हैं ⁠॥⁠ ४ ⁠॥

योऽसौ दिव्याः कथा वेद देवतासुरसंश्रिताः ⁠।
मनुष्योरगगन्धर्वकथा वेद च सर्वशः ⁠॥⁠ ५ ⁠॥
वे देवताओं और असुरोंसे सम्बन्ध रखनेवाली बहुत-सी दिव्य कथाएँ जानते हैं। मनुष्यों, नागों तथा गन्धर्वोंकी कथाओंसे भी वे सर्वथा परिचित हैं ⁠॥⁠ ५ ⁠॥

स चाप्यस्मिन् मखे सौते विद्वान् कुलपतिर्द्विजः ⁠।
दक्षो धृतव्रतो धीमाञ्छास्त्रे चारण्यके गुरुः ⁠॥⁠ ६ ⁠॥
सूतनन्दन! वे विद्वान् कुलपति विप्रवर शौनकजी भी इस यज्ञमें उपस्थित हैं। वे चतुर, उत्तम व्रतधारी तथा बुद्धिमान् हैं। शास्त्र (श्रुति, स्मृति, इतिहास, पुराण) तथा आरण्यक (बृहदारण्यक आदि)-के तो वे आचार्य ही हैं ⁠॥⁠ ६ ⁠॥

सत्यवादी शमपरस्तपस्वी नियतव्रतः ⁠।
सर्वेषामेव नो मान्यः स तावत् प्रतिपाल्यताम् ⁠॥⁠ ७ ⁠॥

वे सदा सत्य बोलनेवाले, मन और इन्द्रियोंके संयममें तत्पर, तपस्वी और नियमपूर्वक व्रतको निबाहनेवाले हैं। वे हम सभी लोगोंके लिये सम्माननीय हैं; अतः जबतक उनका आना न हो, तबतक प्रतीक्षा कीजिये ⁠॥⁠ ७ ⁠॥

उग्रश्रवाजीके द्वारा महाभारतकी कथा

तस्मिन्नध्यासति गुरावासनं परमार्चितम् ⁠।
ततो वक्ष्यसि यत्त्वां स प्रक्ष्यति द्विजसत्तमः ⁠॥⁠ ८ ⁠॥
गुरुदेव शौनक जब यहाँ उत्तम आसनपर विराजमान हो जायँ, उस समय वे द्विजश्रेष्ठ आपसे जो कुछ पूछें, उसी प्रसंगको लेकर आप बोलियेगा ⁠॥⁠ ८ ⁠॥

सौतिरुवाच
एवमस्तु गुरौ तस्मिन्नुपविष्टे महात्मनि ⁠।
तेन पृष्टः कथाः पुण्या वक्ष्यामि विविधाश्रयाः ⁠॥⁠ ९ ⁠॥
उग्रश्रवाजीने कहा—
एवमस्तु (ऐसा ही होगा), गुरुदेव महात्मा शौनकजीके बैठ जानेपर उन्हींके पूछनेके अनुसार मैं

नाना प्रकारकी पुण्यदायिनी कथाएँ कहूँगा ⁠॥⁠ ९ ⁠॥
सोऽथ विप्रर्षभः सर्वं कृत्वा कार्यं यथाविधि ⁠।
देवान् वाग्भिः पितॄनद्भिस्तर्पयित्वाऽऽजगाम ह ⁠॥⁠ १० ⁠॥
यत्र ब्रह्मर्षयः सिद्धाः सुखासीना धृतव्रताः ⁠।
यज्ञायतनमाश्रित्य सूतपुत्रपुरःसराः ⁠॥⁠ ११ ⁠॥
तदनन्तर विप्रशिरोमणि शौनकजी क्रमशः सब कार्योंका विधिपूर्वक सम्पादन करके वैदिक स्तुतियोंद्वारा देवताओंको और जलकी अंजलिद्वारा पितरोंको तृप्त करनेके पश्चात् उस स्थानपर आये, जहाँ उत्तम व्रतधारी सिद्ध-ब्रह्मर्षिगण यज्ञमण्डपमें सूतजीको आगे विराजमान करके सुखपूर्वक बैठे थे ⁠॥⁠ १०-११ ⁠॥

ऋत्विक्ष्वथ सदस्येषु स वै गृहपतिस्तदा ⁠।
उपविष्टेषूपविष्टः शौनकोऽथाब्रवीदिदम् ⁠॥⁠ १२ ⁠॥
ऋत्विजों और सदस्योंके बैठ जानेपर कुलपति शौनकजी भी वहाँ बैठे और इस प्रकार बोले ⁠॥⁠ १२ ⁠॥

इति श्रीमहाभारते आदिपर्वणि पौलोमपर्वणि कथाप्रवेशो नाम चतुर्थोऽध्यायः ⁠॥⁠ ४ ⁠॥
इस प्रकार श्री महाभारत आदिपर्व के अन्तर्गत पौलोम पर्व में कथा प्रवेश नामक चौथा अध्याय पूरा हुआ ⁠॥⁠ ४ ⁠॥

सन्दीप शाह

सन्दीप शाह दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातक हैं। वे तकनीक के माध्यम से हिंदी के प्रचार-प्रसार को लेकर कार्यरत हैं। बचपन से ही जिज्ञासु प्रकृति के रहे सन्दीप तकनीक के नए आयामों को समझने और उनके व्यावहारिक उपयोग को लेकर सदैव उत्सुक रहते हैं। हिंदीपथ के साथ जुड़कर वे तकनीक के माध्यम से हिंदी की उत्तम सामग्री को लोगों तक पहुँचाने के काम में लगे हुए हैं। संदीप का मानना है कि नए माध्यम ही हमें अपनी विरासत के प्रसार में सहायता पहुँचा सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: यह सामग्री सुरक्षित है !!