अब जो मिले हैं – Ab Jo Mile Hain To Lyrics In Hindi

“अब जो मिले हैं” 1971 की प्रसिद्ध फ़िल्म कारवाँ का गाना है। इसे सुरों से सजाया है आशा भोसले ने व संगीतबद्ध किया है राहुल देव बर्मन ने। मजरूह सुलतानपुरी की क़लम ने जन्म दिया है इन ख़ूबसूरत शब्दों को। फ़िल्म में जितेंद्र, आशा पारेख, अरुणा ईरानी और मनोरमा ने महत्वपूर्ण भूमिकाएँ अदा की हैं। पढ़ें अब जो मिले हैं के बोल हिंदी में (Ab Jo Mile Hain To lyrics in Hindi)–

“अब जो मिले हैं” लिरिक्स

अब जो मिले हैं तो
बाहों को बाहों में रहने दे ए साजना
सच्चे कि झूठे हैं
होंठों को होंठों से कहने दे ए साजना

यूँ ही नशा चढ़ता रहे
के तेरा प्यार बढ़ता रहे
ये झूमता साया तेरा
तन पे मेरे पड़ता रहे
तू आ गया जो होश में
क्या होगा फिर, ये भूल जा
अब जो मिले हैं…

तू है हवा, शोला हूँ मैं
मिलके भी जो मिल ना सके
बुझ ना सके तेरे बिना
तेरे बिना जल ना सके
मजबूर हूँ तेरी क़सम
झूठी नहीं मेरी वफ़ा
अब जो मिले हैं तो
मुझको निगाहों में रहने दे ए साजना
सच्चे कि झूठे हैं
नैनों को नैनों से कहने दे ए साजना

कारवाँ से जुड़े तथ्य

फिल्मकारवाँ
वर्ष1971
गायक / गायिकाआशा भोसले
संगीतकारराहुल देव बर्मन
गीतकारमजरूह सुलतानपुरी
अभिनेता / अभिनेत्रीजितेंद्र, आशा पारेख, अरुणा ईरानी, मनोरमा

विदेशों में जा बसे बहुत से देशवासियों की मांग है कि हम अब जो मिले हैं गीत को देवनागरी हिंदी के अतिरिक्त अंग्रेजी / रोमन में भी प्रस्तुत करें ताकि वे भी इस गाने को पढ़ सकें व आनंद ले सकें। पढ़ें Ab Jo Mile Hain To रोमन में-

Ab Jo Mile Hain To Lyrics in Hindi

aba jo mile haiṃ to
bāhoṃ ko bāhoṃ meṃ rahane de e sājanā
sacce ki jhūṭhe haiṃ
hoṃṭhoṃ ko hoṃṭhoṃ se kahane de e sājanā

yū~ hī naśā caढ़tā rahe
ke terā pyāra baढ़tā rahe
ye jhūmatā sāyā terā
tana pe mere paड़tā rahe
tū ā gayā jo hośa meṃ
kyā hogā phira, ye bhūla jā
aba jo mile haiṃ…

tū hai havā, śolā hū~ maiṃ
milake bhī jo mila nā sake
bujha nā sake tere binā
tere binā jala nā sake
majabūra hū~ terī क़sama
jhūṭhī nahīṃ merī vaफ़ā
aba jo mile haiṃ to
mujhako nigāhoṃ meṃ rahane de e sājanā
sacce ki jhūṭhe haiṃ
nainoṃ ko nainoṃ se kahane de e sājanā

Facts about the Film

FilmCaravan
Year1971
SingerAsha Bhosle
MusicRahul Dev Burman
LyricsMajrooh Sultanpuri
ActorsJeetendra, Asha Parekh, Aruna Irani, Manorama

यह भी पढ़ें

कल हो न होहम है इस पल यहाँवो किसना हैचाहूंगा मैं तुझे सांझ सवेरे लिरिक्सजाने वालो जराराही मनवा दुख की चिंताकोई जब राह न पाएमेरा तो जो भी कदम हैगजाननाहर हर गंगेविघ्नहर्ताबड़ा नटखट है रे कृष्ण कन्हैयागोविंदा आला रे आलायशोदा का नंदलालायशोमती मैया से बोले नंदलालासाथी हाथ बढ़ानानन्हे मुन्ने बच्चे तेरी मुट्ठी में क्या हैऐसा देस है मेरागुड़िया हमसे रूठी रहोगीमां शेरावालिये तेरा शेर आ गयाशिव भोला भंडारीअथ श्री महाभारत कथा गीतसाईनाथ तेरे हज़ारों हाथसाईं बाबा बोलोमुकुंदा मुकुंदा कृष्णा मुकुंदा मुकुंदापल पल दिल के पासतू ही तूगो गो गोविंदामेरे निशानओ पालनहारेहरि बोलरांझा शेरशाहकभी तुम्हें कुछ तो हुआ हैकल हो न होआ जा जाने-जांआजा आई बहारआ गुपचुप गुपचुप प्यार करेंआ गले लग जा मेरे सपने मेरे अपनेआ चल के तुझे

सन्दीप शाह

सन्दीप शाह दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातक हैं। वे तकनीक के माध्यम से हिंदी के प्रचार-प्रसार को लेकर कार्यरत हैं। बचपन से ही जिज्ञासु प्रकृति के रहे सन्दीप तकनीक के नए आयामों को समझने और उनके व्यावहारिक उपयोग को लेकर सदैव उत्सुक रहते हैं। हिंदीपथ के साथ जुड़कर वे तकनीक के माध्यम से हिंदी की उत्तम सामग्री को लोगों तक पहुँचाने के काम में लगे हुए हैं। संदीप का मानना है कि नए माध्यम ही हमें अपनी विरासत के प्रसार में सहायता पहुँचा सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: यह सामग्री सुरक्षित है !!