ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग – Omkareshwar Jyotirlinga

ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग मध्य प्रदेश में पवित्र नर्मदा नदी के तट पर अवस्थित है। इस स्थान पर नर्मदा की दो धाराओं में विभक्त हो जाने से बीच में एक टापू-सा बन गया है। इस टापू को मान्धाता-पर्वत या शिवपुरी कहते हैं। नदी की एक धारा इस पर्वत के उत्तर और दूसरी दक्षिण होकर बहती है। दक्षिण वाली धारा ही मुख्य धारा मानी जाती है। इसी मान्धाता पर्वत पर श्री ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग का मन्दिर स्थित है।

अन्य ज्योतिर्लिंगों के नाम, स्थान व महिमा आदि जानने के लिए कृपया यहाँ जाएँ – 12 ज्योतिर्लिंग

ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग का स्वरूप

पूर्व काल में महाराज मान्धाता ने इसी पर्वत पर अपनी तपस्या से भगवान् शिव को प्रसन्न किया था। इसी से इस पर्वत को मान्धाता पर्वत कहा जाने लगा। इस ओंकारेश्वर मन्दिर के भीतर दो कोठरियों से होकर जाना पड़ता है। भीतर अँधेरा रहने के कारण यहाँ निरन्तर प्रकाश जलता रहता है। ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग मनुष्य निर्मित नहीं है। स्वयं प्रकृति ने इसका निर्माण किया है। इसके चारों ओर हमेशा जल भरा रहता है। सम्पूर्ण मान्धाता पर्वत ही भगवान् शिव का रूप माना जाता है। इसी कारण इसे शिवपुरी भी कहते हैं। लोग भक्ति पूर्वक इसकी परिक्रमा करते हैं।

कार्तिक पूर्णिमा के दिन यहाँ बहुत भारी मेला लगता है। यहाँ लोग भगवान शिवजी को चने की दाल चढ़ाते हैं। रात्रि की शयन-आरती का कार्यक्रम बड़ी भव्यता के साथ होता है। तीर्थ यात्रियों को इसके दर्शन अवश्य करने चाहिये।

अमलेश्वर ज्योतिर्लिंग

इस ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग के दो स्वरूप हैं। एक को अमलेश्वर के नाम से जाना जाता है। यह नर्मदा के दक्षिण तटपर ओङ्कारेश्वर से थोड़ी दूर हटकर है। पृथक् होते हुए भी दोनों की गणना एक ही में की जाती है।

शिवलिंग के दो स्वरूप होने की कथा पुराणों में इस प्रकार दी गयी है–

एक बार विन्ध्य पर्वत ने पार्थिव-अर्चना के साथ भगवान शिव की छः मास तक कठिन उपासना की। उनकी इस उपासना से प्रसन्न होकर भूतभावन शंकर जी वहाँ प्रकट हुए। उन्होंने विन्ध्य को उनके मनोवांछित वर प्रदान किये। विंध्याचल की इस वर-प्राप्ति के अवसर पर वहाँ बहुत-से ऋषिगण और मनि भी पधारे। उनकी प्रार्थना पर शिव जी ने अपने ओंकारेश्वर नामक ज्योतिर्लिंग के दो भाग किये। एक का नाम ओंकारेश्वर और दूसरे का अमलेश्वर पड़ा। दोनों ज्योतिर्लिंग का स्थान और मन्दिर पृथक् होते हुए भी दोनों की सत्ता और स्वरूप एक ही माना गया है।

ओंकारेश्वर व अमलेश्वर की महिम

शिव पुराण में इस ज्योतिर्लिंग की महिमा का विस्तार से वर्णन किया गया है। श्री ओंकारेश्वर और श्री अमलेश्वर के दर्शन का पुण्य बताते हुए नर्मदा-स्नान के पावन फल का भी वर्णन किया गया है। प्रत्येक मनुष्य को इस क्षेत्र की यात्रा अवश्य ही करनी चाहिये। लौकिक-पारलौकिक दोनों प्रकार के उत्तम फलों की प्राप्ति भगवान ओंकारेश्वर की कृपा से सहज ही हो जाती है। अर्थ, धर्म, काम, मोक्ष के सभी साधन उसके लिये सहज ही सुलभ हो जाते हैं। अन्ततः उसे लोकेश्वर महादेव भगवान् शिव के परमधामकी प्राप्ति भी हो जाती है।

भगवान् शिव तो भक्तों पर अकारण ही कृपा करने वाले हैं। वह अवढरदानी हैं। फिर जो लोग यहाँ आकर उनके दर्शन करते हैं, उनके सौभाग्य के विषय में कहना ही क्या है? उनके लिये तो सभी प्रकार के उत्तम पुण्य-मार्ग सदा-सदा के लिये खुल जाते हैं।

सन्दीप शाह

सन्दीप शाह दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातक हैं। वे तकनीक के माध्यम से हिंदी के प्रचार-प्रसार को लेकर कार्यरत हैं। बचपन से ही जिज्ञासु प्रकृति के रहे सन्दीप तकनीक के नए आयामों को समझने और उनके व्यावहारिक उपयोग को लेकर सदैव उत्सुक रहते हैं। हिंदीपथ के साथ जुड़कर वे तकनीक के माध्यम से हिंदी की उत्तम सामग्री को लोगों तक पहुँचाने के काम में लगे हुए हैं। संदीप का मानना है कि नए माध्यम ही हमें अपनी विरासत के प्रसार में सहायता पहुँचा सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: यह सामग्री सुरक्षित है !!