आवाज देके हमें तुम बुलाओ – Aawaz Deke Hame Tum Bulao Lyrics In Hindi

“आवाज देके हमें तुम बुलाओ” 1962 की प्रसिद्ध फ़िल्म प्रोफेसर का गाना है। इसे सुरों से सजाया है लता मंगेशकर और मोहम्मद रफी ने व संगीतबद्ध किया है शंकर जयकिशन ने। हसरत जयपुरी की क़लम ने जन्म दिया है इन ख़ूबसूरत शब्दों को। फ़िल्म में शम्मी कपूर, प्रवीण चौधरी, ललिता पवार और कल्पना मोहन ने महत्वपूर्ण भूमिकाएँ अदा की हैं। पढ़ें आवाज देके हमें तुम बुलाओ के बोल हिंदी में (Aawaz Deke Hame Tum Bulao lyrics in Hindi)–

“आवाज देके हमें तुम बुलाओ” लिरिक्स

आवाज़ देके हमें तुम बुलाओ
मोहब्बत में इतना ना हमको सताओ

अभी तो मेरी ज़िंदगी है परेशां
कहीं मर के हो खाक भी न परेशां
दिये की तरह से न हमको जलाओ
मोहब्बत में इतना ना हमको सताओ

मैं सांसों के हर तार में छुप रहा हूँ
मैं धड़कन के हर राग में बस रहा हूँ
ज़रा दिल की जानिब निगाहें झुकाओ
मोहब्बत में इतना ना हमको सताओ

ना होंगे अगर हम तो रोते रहोगे
सदा दिल का दामन भिगोते रहोगे
जो तुम पर मिटा हो उसे ना मिटाओ
मोहब्बत में इतना ना हमको सताओ

आवाज़ देके हमें तुम बुलाओ
मोहब्बत में इतना ना हमको सताओ

प्रोफेसर से जुड़े तथ्य

फिल्मप्रोफेसर
वर्ष1962
गायक / गायिकालता मंगेशकर, मोहम्मद रफी
संगीतकारशंकर जयकिशन
गीतकारहसरत जयपुरी
अभिनेता / अभिनेत्रीशम्मी कपूर, प्रवीण चौधरी, ललिता पवार, कल्पना मोहन

विदेशों में जा बसे बहुत से देशवासियों की मांग है कि हम आवाज़ देके हमें तुम बुलाओ गीत को देवनागरी हिंदी के अतिरिक्त अंग्रेजी / रोमन में भी प्रस्तुत करें ताकि वे भी इस गाने को पढ़ सकें व आनंद ले सकें। पढ़ें Aawaz Deke Hame Tum Bulao रोमन में-

Aawaz Deke Hame Tum Bulao Lyrics in Hindi

आवाज़ देके हमें तुम बुलाओ
मोहब्बत में इतना ना हमको सताओ

अभी तो मेरी ज़िंदगी है परेशां
कहीं मर के हो खाक भी न परेशां
दिये की तरह से न हमको जलाओ
मोहब्बत में इतना ना हमको सताओ

मैं सांसों के हर तार में छुप रहा हूँ
मैं धड़कन के हर राग में बस रहा हूँ
ज़रा दिल की जानिब निगाहें झुकाओ
मोहब्बत में इतना ना हमको सताओ

ना होंगे अगर हम तो रोते रहोगे
सदा दिल का दामन भिगोते रहोगे
जो तुम पर मिटा हो उसे ना मिटाओ
मोहब्बत में इतना ना हमको सताओ

आवाज़ देके हमें तुम बुलाओ
मोहब्बत में इतना ना हमको सताओ

Facts about the Film

FilmProfessor
Year1962
SingerLata Mangeshkar, Mohammad Rafi
MusicShankar Jaikishan
LyricsHasrat Jaipuri
ActorsShammi Kapoor, Parveen Choudhary, Lalita Pawar, Kalpana Mohan

यह भी पढ़ें

कल हो न होहम है इस पल यहाँवो किसना हैचाहूंगा मैं तुझे सांझ सवेरे लिरिक्सजाने वालो जराराही मनवा दुख की चिंताकोई जब राह न पाएमेरा तो जो भी कदम हैगजाननाहर हर गंगेविघ्नहर्ताबड़ा नटखट है रे कृष्ण कन्हैयागोविंदा आला रे आलायशोदा का नंदलालायशोमती मैया से बोले नंदलालासाथी हाथ बढ़ानानन्हे मुन्ने बच्चे तेरी मुट्ठी में क्या हैऐसा देस है मेरागुड़िया हमसे रूठी रहोगीमां शेरावालिये तेरा शेर आ गयाशिव भोला भंडारीअथ श्री महाभारत कथा गीतसाईनाथ तेरे हज़ारों हाथसाईं बाबा बोलोमुकुंदा मुकुंदा कृष्णा मुकुंदा मुकुंदापल पल दिल के पासतू ही तूगो गो गोविंदामेरे निशानओ पालनहारेहरि बोलरांझा शेरशाहकभी तुम्हें कुछ तो हुआ हैकल हो न होआ जा जाने-जांआजा आई बहारआ गुपचुप गुपचुप प्यार करेंआ गले लग जा मेरे सपने मेरे अपनेआ चल के तुझे

सन्दीप शाह

सन्दीप शाह दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातक हैं। वे तकनीक के माध्यम से हिंदी के प्रचार-प्रसार को लेकर कार्यरत हैं। बचपन से ही जिज्ञासु प्रकृति के रहे सन्दीप तकनीक के नए आयामों को समझने और उनके व्यावहारिक उपयोग को लेकर सदैव उत्सुक रहते हैं। हिंदीपथ के साथ जुड़कर वे तकनीक के माध्यम से हिंदी की उत्तम सामग्री को लोगों तक पहुँचाने के काम में लगे हुए हैं। संदीप का मानना है कि नए माध्यम ही हमें अपनी विरासत के प्रसार में सहायता पहुँचा सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: यह सामग्री सुरक्षित है !!