चंद्र देव के 108 नाम – Chandra Dev Ke 108 Naam

चंद्र देव के 108 नाम (Chandra Dev Ke 108 Naam) का मंत्र-रूप में जप संकल्प-शक्ति को बलवान बनाता है। वैदिक ज्योतिष के अनुसार चंद्रमा मन का कारक है। चन्द्र देव की उपासना से मन शक्तिशाली होता है। कहते भी हैं कि मन के हारे हार है, मन के जीते जीत। अतः जिसका मन बल-संपन्न है उसके लिए संसार में कुछ भी कठिन नहीं रहता है। उसकी प्रतिष्ठा चारों दिशाओं में फैल जाती है और जीवन समृद्धि से भरपूर हो जाता है। जो साफ़ मन से चंद्र देव के 108 नाम नित्य ही जपता है वह आशावान बन जाता है और बाधाओं से भयभीत होकर पीछे नहीं हटता है। पढ़ें चंद्र देव के 108 नाम मंत्र-रूप में–

यह भी पढ़ेंचंद्र देव की आरती

  1. ॐ श्रीमते नमः।
  2. ॐ शशधराय नमः।
  3. ॐ चन्द्राय नमः।
  4. ॐ ताराधीशाय नमः।
  5. ॐ निशाकराय नमः।
  6. ॐ सुधानिधये नमः।
  7. ॐ सदाराध्याय नमः।
  8. ॐ सत्पतये नमः।
  9. ॐ साधुपूजिताय नमः।
  10. ॐ जितेन्द्रियाय नमः।
  11. ॐ जयोद्योगाय नमः।
  12. ॐ ज्योतिश्चक्रप्रवर्तकाय नमः।
  13. ॐ विकर्तनानुजाय नमः।
  14. ॐ वीराय नमः।
  15. ॐ विश्वेशाय नमः।
  16. ॐ विदुषां पतये नमः।
  17. ॐ दोषाकराय नमः।
  18. ॐ दुष्टदूराय नमः।
  19. ॐ पुष्टिमते नमः।
  20. ॐ शिष्टपालकाय नमः।
  21. ॐ अष्टमूर्तिप्रियाय नमः।
  22. ॐ अनन्ताय नमः।
  23. ॐ कष्टदारुकुठारकाय नमः।
  24. ॐ स्वप्रकाशाय नमः।
  25. ॐ प्रकाशात्मने नमः।
  26. ॐ द्युचराय नमः।
  27. ॐ देवभोजनाय नमः।
  28. ॐ कलाधराय नमः।
  29. ॐ कालहेतवे नमः।
  30. ॐ कामकृते नमः।
  31. ॐ कामदायकाय नमः।
  32. ॐ मृत्युसंहारकाय नमः।
  33. ॐ अमर्त्याय नमः।
  34. ॐ नित्यानुष्ठानदाय नमः।
  35. ॐ क्षपाकराय नमः।
  36. ॐ क्षीणपापाय नमः।
  37. ॐ क्षयवृद्धिसमन्विताय नमः।
  38. ॐ जैवातृकाय नमः।
  39. ॐ शुचये नमः।
  40. ॐ शुभ्राय नमः।
  41. ॐ जयिने नमः।
  42. ॐ जयफलप्रदाय नमः।
  43. ॐ सुधामयाय नमः।
  44. ॐ सुरस्वामिने नमः।
  45. ॐ भक्तानामिष्टदायकाय नमः।
  46. ॐ भुक्तिदाय नमः।
  47. ॐ मुक्तिदाय नमः।
  48. ॐ भद्राय नमः।
  49. ॐ भक्तदारिद्र्यभंजनाय नमः।
  50. ॐ सामगानप्रियाय नमः।
  51. ॐ सर्वरक्षकाय नमः।
  52. ॐ सागरोद्भवाय नमः।
  53. ॐ भयान्तकृते नमः।
  54. ॐ भक्तिगम्याय नमः।
  55. ॐ भवबन्धविमोचकाय नमः।
  56. ॐ जगत्प्रकाशकिरणाय नमः।
  57. ॐ जगदानन्दकारणाय नमः।
  58. ॐ निस्सपत्नाय नमः।
  59. ॐ निराहाराय नमः।
  60. ॐ निर्विकाराय नमः।
  61. ॐ निरामयाय नमः।
  62. ॐ भूच्छायाच्छादिताय नमः।
  63. ॐ भव्याय नमः।
  64. ॐ भुवनप्रतिपालकाय नमः।
  65. ॐ सकलार्तिहराय नमः।
  66. ॐ सौम्यजनकाय नमः।
  67. ॐ साधुवन्दिताय नमः।
  68. ॐ सर्वागमज्ञाय नमः।
  69. ॐ सर्वज्ञाय नमः।
  70. ॐ सनकादिमुनिस्तुताय नमः।
  71. ॐ सितच्छत्रध्वजोपेताय नमः।
  72. ॐ सितांगाय नमः।
  73. ॐ सितभूषणाय नमः।
  74. ॐ श्वेतमाल्याम्बरधराय नमः।
  75. ॐ श्वेतगन्धानुलेपनाय नमः।
  76. ॐ दशाश्वरथसंरूढाय नमः।
  77. ॐ दण्डपाणये नमः।
  78. ॐ धनुर्धराय नमः।
  79. ॐ कुन्दपुष्पोज्ज्वलाकाराय नमः।
  80. ॐ नयनाब्जसमुद्भवाय नमः।
  81. ॐ आत्रेयगोत्रजाय नमः।
  82. ॐ अत्यन्तविनयाय नमः।
  83. ॐ प्रियदायकाय नमः।
  84. ॐ करुणारससम्पूर्णाय नमः।
  85. ॐ कर्कटप्रभवे नमः।
  86. ॐ अव्ययाय नमः।
  87. ॐ चतुरश्रासनारूढाय नमः।
  88. ॐ चतुराय नमः।
  89. ॐ दिव्यवाहनाय नमः।
  90. ॐ विवस्वन्मण्डलाज्ञेयवासाय नमः।
  91. ॐ वसुसमृद्धिदाय नमः।
  92. ॐ महेश्वरप्रियाय नमः।
  93. ॐ दान्ताय नमः।
  94. ॐ मेरुगोत्रप्रदक्षिणाय नमः।
  95. ॐ ग्रहमण्डलमध्यस्थाय नमः।
  96. ॐ ग्रसितार्काय नमः।
  97. ॐ ग्रहाधिपाय नमः।
  98. ॐ द्विजराजाय नमः।
  99. ॐ द्युतिलकाय नमः।
  100. ॐ द्विभुजाय नमः।
  101. ॐ द्विजपूजिताय नमः।
  102. ॐ औदुम्बरनगावासाय नमः।
  103. ॐ उदाराय नमः।
  104. ॐ रोहिणीपतये नमः।
  105. ॐ नित्योदयाय नमः।
  106. ॐ मुनिस्तुत्याय नमः।
  107. ॐ नित्यानन्दफलप्रदाय नमः।
  108. ॐ सकलाह्लादनकराय नमः।

यह भी पढ़ेंचंद्र कवच स्तोत्र

विदेशों में बसे कुछ हिंदू स्वजनों के आग्रह पर चंद्र देव के 108 नाम (Chandra Dev Ke 108 Naam) को हम रोमन में भी प्रस्तुत कर रहे हैं। हमें आशा है कि वे इससे अवश्य लाभान्वित होंगे। पढ़ें चंद्र देव के 108 नाम रोमन में–

  1. oṃ śrīmate namaḥ।
  2. oṃ śaśadharāya namaḥ।
  3. oṃ candrāya namaḥ।
  4. oṃ tārādhīśāya namaḥ।
  5. oṃ niśākarāya namaḥ।
  6. oṃ sudhānidhaye namaḥ।
  7. oṃ sadārādhyāya namaḥ।
  8. oṃ satpataye namaḥ।
  9. oṃ sādhupūjitāya namaḥ।
  10. oṃ jitendriyāya namaḥ।
  11. oṃ jayodyogāya namaḥ।
  12. oṃ jyotiścakrapravartakāya namaḥ।
  13. oṃ vikartanānujāya namaḥ।
  14. oṃ vīrāya namaḥ।
  15. oṃ viśveśāya namaḥ।
  16. oṃ viduṣāṃ pataye namaḥ।
  17. oṃ doṣākarāya namaḥ।
  18. oṃ duṣṭadūrāya namaḥ।
  19. oṃ puṣṭimate namaḥ।
  20. oṃ śiṣṭapālakāya namaḥ।
  21. oṃ aṣṭamūrtipriyāya namaḥ।
  22. oṃ anantāya namaḥ।
  23. oṃ kaṣṭadārukuṭhārakāya namaḥ।
  24. oṃ svaprakāśāya namaḥ।
  25. oṃ prakāśātmane namaḥ।
  26. oṃ dyucarāya namaḥ।
  27. oṃ devabhojanāya namaḥ।
  28. oṃ kalādharāya namaḥ।
  29. oṃ kālahetave namaḥ।
  30. oṃ kāmakṛte namaḥ।
  31. oṃ kāmadāyakāya namaḥ।
  32. oṃ mṛtyusaṃhārakāya namaḥ।
  33. oṃ amartyāya namaḥ।
  34. oṃ nityānuṣṭhānadāya namaḥ।
  35. oṃ kṣapākarāya namaḥ।
  36. oṃ kṣīṇapāpāya namaḥ।
  37. oṃ kṣayavṛddhisamanvitāya namaḥ।
  38. oṃ jaivātṛkāya namaḥ।
  39. oṃ śucaye namaḥ।
  40. oṃ śubhrāya namaḥ।
  41. oṃ jayine namaḥ।
  42. oṃ jayaphalapradāya namaḥ।
  43. oṃ sudhāmayāya namaḥ।
  44. oṃ surasvāmine namaḥ।
  45. oṃ bhaktānāmiṣṭadāyakāya namaḥ।
  46. oṃ bhuktidāya namaḥ।
  47. oṃ muktidāya namaḥ।
  48. oṃ bhadrāya namaḥ।
  49. oṃ bhaktadāridryabhaṃjanāya namaḥ।
  50. oṃ sāmagānapriyāya namaḥ।
  51. oṃ sarvarakṣakāya namaḥ।
  52. oṃ sāgarodbhavāya namaḥ।
  53. oṃ bhayāntakṛte namaḥ।
  54. oṃ bhaktigamyāya namaḥ।
  55. oṃ bhavabandhavimocakāya namaḥ।
  56. oṃ jagatprakāśakiraṇāya namaḥ।
  57. oṃ jagadānandakāraṇāya namaḥ।
  58. oṃ nissapatnāya namaḥ।
  59. oṃ nirāhārāya namaḥ।
  60. oṃ nirvikārāya namaḥ।
  61. oṃ nirāmayāya namaḥ।
  62. oṃ bhūcchāyācchāditāya namaḥ।
  63. oṃ bhavyāya namaḥ।
  64. oṃ bhuvanapratipālakāya namaḥ।
  65. oṃ sakalārtiharāya namaḥ।
  66. oṃ saumyajanakāya namaḥ।
  67. oṃ sādhuvanditāya namaḥ।
  68. oṃ sarvāgamajñāya namaḥ।
  69. oṃ sarvajñāya namaḥ।
  70. oṃ sanakādimunistutāya namaḥ।
  71. oṃ sitacchatradhvajopetāya namaḥ।
  72. oṃ sitāṃgāya namaḥ।
  73. oṃ sitabhūṣaṇāya namaḥ।
  74. oṃ śvetamālyāmbaradharāya namaḥ।
  75. oṃ śvetagandhānulepanāya namaḥ।
  76. oṃ daśāśvarathasaṃrūḍhāya namaḥ।
  77. oṃ daṇḍapāṇaye namaḥ।
  78. oṃ dhanurdharāya namaḥ।
  79. oṃ kundapuṣpojjvalākārāya namaḥ।
  80. oṃ nayanābjasamudbhavāya namaḥ।
  81. oṃ ātreyagotrajāya namaḥ।
  82. oṃ atyantavinayāya namaḥ।
  83. oṃ priyadāyakāya namaḥ।
  84. oṃ karuṇārasasampūrṇāya namaḥ।
  85. oṃ karkaṭaprabhave namaḥ।
  86. oṃ avyayāya namaḥ।
  87. oṃ caturaśrāsanārūḍhāya namaḥ।
  88. oṃ caturāya namaḥ।
  89. oṃ divyavāhanāya namaḥ।
  90. oṃ vivasvanmaṇḍalājñeyavāsāya namaḥ।
  91. oṃ vasusamṛddhidāya namaḥ।
  92. oṃ maheśvarapriyāya namaḥ।
  93. oṃ dāntāya namaḥ।
  94. oṃ merugotrapradakṣiṇāya namaḥ।
  95. oṃ grahamaṇḍalamadhyasthāya namaḥ।
  96. oṃ grasitārkāya namaḥ।
  97. oṃ grahādhipāya namaḥ।
  98. oṃ dvijarājāya namaḥ।
  99. oṃ dyutilakāya namaḥ।
  100. oṃ dvibhujāya namaḥ।
  101. oṃ dvijapūjitāya namaḥ।
  102. oṃ audumbaranagāvāsāya namaḥ।
  103. oṃ udārāya namaḥ।
  104. oṃ rohiṇīpataye namaḥ।
  105. oṃ nityodayāya namaḥ।
  106. oṃ munistutyāya namaḥ।
  107. oṃ nityānandaphalapradāya namaḥ।
  108. oṃ sakalāhlādanakarāya namaḥ।

सन्दीप शाह

सन्दीप शाह दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातक हैं। वे तकनीक के माध्यम से हिंदी के प्रचार-प्रसार को लेकर कार्यरत हैं। बचपन से ही जिज्ञासु प्रकृति के रहे सन्दीप तकनीक के नए आयामों को समझने और उनके व्यावहारिक उपयोग को लेकर सदैव उत्सुक रहते हैं। हिंदीपथ के साथ जुड़कर वे तकनीक के माध्यम से हिंदी की उत्तम सामग्री को लोगों तक पहुँचाने के काम में लगे हुए हैं। संदीप का मानना है कि नए माध्यम ही हमें अपनी विरासत के प्रसार में सहायता पहुँचा सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: यह सामग्री सुरक्षित है !!