काल भैरव के 108 नाम – Kaal Bhairav Ke 108 Naam

काल भैरव के 108 नाम (Kaal Bhairav Ke 108 Naam) जपने की महिमा जितनी कही जाए उतनी ही कम है। जहाँ काल भैरव का अद्भुत सामर्थ्य विनाश कर सकता है वहीं भक्तों के मन में उठने वाली हर इच्छा पूरी करने में भी सक्षम है। उनका प्रत्येक नाम ऊर्जा-पुंज है जिसका जप भक्त को भी ऊर्जा से भर देता है। पुनः-पुनः निम्न मंत्रों के माध्यम से काल भैरव के 108 नाम को दोहराने से मन में बाबा का तेज उत्पन्न होने लगता है और सारे काम स्वतः ही बनने लगते हैं। सारी ब्रह्माण्डीय शक्तियाँ स्वयं सहायता को तत्पर हो जाती हैं। कहते हैं कि काल भैरव के 108 नाम जपने के लिए व उसमें सफलता पाने के लिए आवश्यकता है तो मात्र शुद्ध चित्त की। अतः भक्ति और श्रद्धा से परिपूर्ण होकर काल भैरव के 108 नाम पढ़ें–

Recite Kaal Bhairav Ke 108 Naam

1. ॐ भैरवाय नमः।
2. ॐ भूतनाथाय नमः।
3. ॐ भूतात्मने नमः।
4. ॐ भूतभावनाय नमः।
5. ॐ क्षेत्रज्ञाय नमः।

6. ॐ क्षेत्रपालाय नमः।
7. ॐ क्षेत्रदाय नमः।
8. ॐ क्षत्रियाय नमः।
9. ॐ विराजे नमः।
10. ॐ श्मशानवासिने नमः।

11. ॐ मांसाशिने नमः।
12. ॐ खर्पराशिने नमः।
13. ॐ स्मरान्तकाय नमः।
14. ॐ रक्तपाय नमः
15. ॐ पानपाय नमः।

16. ॐ सिद्धाय नमः।
17. ॐ सिद्धिदाय नमः।
18. ॐ सिद्धिसेविताय नमः।
19. ॐ कङ्कालाय नमः।
20. ॐ कालशमनाय नमः।

21. ॐ कलाकाष्ठातनवे नमः।
22. ॐ कवये नमः।
23. ॐ त्रिनेत्राय नमः।
24. ॐ बहुनेत्राय नमः।
25. ॐ पिङ्गललोचनाय नमः।

26. ॐ शूलपाणये नमः।
27. ॐ खड्गपाणये नमः।
28. ॐ कङ्कालिने नमः।
29. ॐ धूम्रलोचनाय नमः।
30. ॐ अभीरवे नमः।

31. ॐ भैरवीनाथाय नमः।
32. ॐ भूतपाय नमः।
33. ॐ योगिनीपतये नमः।
34. ॐ धनदाय नमः।
35. ॐ धनहारिणे नमः।

36. ॐ धनवते नमः।
37. ॐ प्रतिभानवते नमः।
38. ॐ नागहाराय नमः।
39. ॐ नागकेशाय नमः।
40. ॐ व्योमकेशाय नमः।

41. ॐ कपालभृते नमः।
42. ॐ कालाय नमः।
43. ॐ कपालमालिने नमः।
44. ॐ कमनीयाय नमः।
45. ॐ कलानिधये नमः।

46. ॐ त्रिलोचनाय नमः।
47. ॐ ज्वलन्नेत्राय नमः।
48. ॐ त्रिशिखिने नमः।
49. ॐ त्रिलोकपाय नमः।
50. ॐ त्रिनेत्रतनयाय नमः।

51. ॐ डिम्भाय नमः।
52. ॐ शान्ताय नमः।
53. ॐ शान्तजनप्रियाय नमः।
54. ॐ बटुकाय नमः।
55. ॐ बहुवेषाय नमः।

56. ॐ खट्वाङ्गवरधारकाय नमः।
57. ॐ भूताध्यक्षाय नमः।
58. ॐ पशुपतये नमः।
59. ॐ भिक्षुकाय नमः।
60. ॐ परिचारकाय नमः।

61. ॐ धूर्ताय नमः।
62. ॐ दिगम्बराय नमः।
63. ॐ शौरिणे नमः।
64. ॐ हरिणाय नमः।
65. ॐ पाण्डुलोचनाय नमः।

66. ॐ प्रशान्ताय नमः।
67. ॐ शान्तिदाय नमः।
68. ॐ सिद्धाय नमः।
69. ॐ शङ्करप्रियबान्धवाय नमः।
70. ॐ अष्टमूर्तये नमः।

71. ॐ निधीशाय नमः।
72. ॐ ज्ञानचक्षुषे नमः।
73. ॐ तपोमयाय नमः।
74. ॐ अष्टाधाराय नमः।
75. ॐ षडाधाराय नमः।

76. ॐ सर्पयुक्ताय नमः।
77. ॐ शिखीसख्ये नमः।
78. ॐ भूधराय नमः।
79. ॐ भूधराधीशाय नमः।
80. ॐ भूपतये नमः।

81. ॐ भूधरात्मजाय नमः।
82. ॐ कङ्कालधारिणे नमः।
83. ॐ मुण्डिने नमः।
84. ॐ नागयज्ञोपवीतकाय नमः।
85. ॐ जृम्भणाय नमः।

86. ॐ मोहनाय नमः।
87. ॐ स्तम्भिने नमः।
88. ॐ मारणाय नमः।
89. ॐ क्षोभणाय नमः।
90. ॐ शुद्धाय नमः।

91. ॐ नीलाञ्जनप्रख्याय नमः।
92. ॐ दैत्यघ्ने नमः।
93. ॐ मुण्डभूषिताय नमः।
94. ॐ बलिभुजे नमः।’
95. ॐ बलिभुङ्नाथाय नमः।

96. ॐ बालाय नमः।
97. ॐ बालपराक्रमाय नमः।
98. ॐ सर्वापत्तारणाय नमः।
99. ॐ दुर्गाय नमः।
100. ॐ दुष्टभूतनिषेविताय नमः।

101. ॐ कामिने नमः।
102. ॐ कलानिधये नमः।
103. ॐ कान्ताय नमः।
104. ॐ कामिनीवशकृद्वशिने नमः।
105. ॐ सर्वसिद्धिप्रदाय नमः।

106. ॐ वैद्याय नमः।
107. ॐ प्रभवे नमः।
108. ॐ विष्णवे नमः।

यह भी पढ़ें

विदेशों में बसे कुछ हिंदू स्वजनों के आग्रह पर काल भैरव के 108 नाम (Kaal Bhairav Ke 108 Naam) को हम रोमन में भी प्रस्तुत कर रहे हैं। हमें आशा है कि वे इससे अवश्य लाभान्वित होंगे। पढ़ें काल भैरव के 108 नाम रोमन में–

1. oṃ bhairavāya namaḥ।
2. oṃ bhūtanāthāya namaḥ।
3. oṃ bhūtātmane namaḥ।
4. oṃ bhūtabhāvanāya namaḥ।
5. oṃ kṣetrajñāya namaḥ।

6. oṃ kṣetrapālāya namaḥ।
7. oṃ kṣetradāya namaḥ।
8. oṃ kṣatriyāya namaḥ।
9. oṃ virāje namaḥ।
10. oṃ śmaśānavāsine namaḥ।

11. oṃ māṃsāśine namaḥ।
12. oṃ kharparāśine namaḥ।
13. oṃ smarāntakāya namaḥ।
14. oṃ raktapāya namaḥ।
15. oṃ pānapāya namaḥ।

16. oṃ siddhāya namaḥ।
17. oṃ siddhidāya namaḥ।
18. oṃ siddhisevitāya namaḥ।
19. oṃ kaṅkālāya namaḥ।
20. oṃ kālaśamanāya namaḥ।

21. oṃ kalākāṣṭhātanave namaḥ।
22. oṃ kavaye namaḥ।
23. oṃ trinetrāya namaḥ।
24. oṃ bahunetrāya namaḥ।
25. oṃ piṅgalalocanāya namaḥ।

26. oṃ śūlapāṇaye namaḥ।
27. oṃ khaḍgapāṇaye namaḥ।
28. oṃ kaṅkāline namaḥ।
29. oṃ dhūmralocanāya namaḥ।
30. oṃ abhīrave namaḥ।

31. oṃ bhairavīnāthāya namaḥ।
32. oṃ bhūtapāya namaḥ।
33. oṃ yoginīpataye namaḥ।
34. oṃ dhanadāya namaḥ।
35. oṃ dhanahāriṇe namaḥ।

36. oṃ dhanavate namaḥ।
37. oṃ pratibhānavate namaḥ।
38. oṃ nāgahārāya namaḥ।
39. oṃ nāgakeśāya namaḥ।
40. oṃ vyomakeśāya namaḥ।

41. oṃ kapālabhṛte namaḥ।
42. oṃ kālāya namaḥ।
43. oṃ kapālamāline namaḥ।
44. oṃ kamanīyāya namaḥ।
45. oṃ kalānidhaye namaḥ।

46. oṃ trilocanāya namaḥ।
47. oṃ jvalannetrāya namaḥ।
48. oṃ triśikhine namaḥ।
49. oṃ trilokapāya namaḥ।
50. oṃ trinetratanayāya namaḥ।

51. oṃ ḍimbhāya namaḥ।
52. oṃ śāntāya namaḥ।
53. oṃ śāntajanapriyāya namaḥ।
54. oṃ baṭukāya namaḥ।
55. oṃ bahuveṣāya namaḥ।

56. oṃ khaṭvāṅgavaradhārakāya namaḥ।
57. oṃ bhūtādhyakṣāya namaḥ।
58. oṃ paśupataye namaḥ।
59. oṃ bhikṣukāya namaḥ।
60. oṃ paricārakāya namaḥ।

61. oṃ dhūrtāya namaḥ।
62. oṃ digambarāya namaḥ।
63. oṃ śauriṇe namaḥ।
64. oṃ hariṇāya namaḥ।
65. oṃ pāṇḍulocanāya namaḥ।

66. oṃ praśāntāya namaḥ।
67. oṃ śāntidāya namaḥ।
68. oṃ siddhāya namaḥ।
69. oṃ śaṅkarapriyabāndhavāya namaḥ।
70. oṃ aṣṭamūrtaye namaḥ।

71. oṃ nidhīśāya namaḥ।
72. oṃ jñānacakṣuṣe namaḥ।
73. oṃ tapomayāya namaḥ।
74. oṃ aṣṭādhārāya namaḥ।
75. oṃ ṣaḍādhārāya namaḥ।

76. oṃ sarpayuktāya namaḥ।
77. oṃ śikhīsakhye namaḥ।
78. oṃ bhūdharāya namaḥ।
79. oṃ bhūdharādhīśāya namaḥ।
80. oṃ bhūpataye namaḥ।

81. oṃ bhūdharātmajāya namaḥ।
82. oṃ kaṅkāladhāriṇe namaḥ।
83. oṃ muṇḍine namaḥ।
84. oṃ nāgayajñopavītakāya namaḥ।
85. oṃ jṛmbhaṇāya namaḥ।

86. oṃ mohanāya namaḥ।
87. oṃ stambhine namaḥ।
88. oṃ māraṇāya namaḥ।
89. oṃ kṣobhaṇāya namaḥ।
90. oṃ śuddhāya namaḥ।

91. oṃ nīlāñjanaprakhyāya namaḥ।
92. oṃ daityaghne namaḥ।
93. oṃ muṇḍabhūṣitāya namaḥ।
94. oṃ balibhuje namaḥ।
95. oṃ balibhuṅnāthāya namaḥ।

96. oṃ bālāya namaḥ।
97. oṃ bālaparākramāya namaḥ।
98. oṃ sarvāpattāraṇāya namaḥ।
99. oṃ durgāya namaḥ।
100. oṃ duṣṭabhūtaniṣevitāya namaḥ।

101. oṃ kāmine namaḥ।
102. oṃ kalānidhaye namaḥ।
103. oṃ kāntāya namaḥ।
104. oṃ kāminīvaśakṛdvaśine namaḥ।
105. oṃ sarvasiddhipradāya namaḥ।

106. oṃ vaidyāya namaḥ।
107. oṃ prabhave namaḥ।
108. oṃ viṣṇave namaḥ।

यह भी पढ़ेंभैरव आरती

सन्दीप शाह

सन्दीप शाह दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातक हैं। वे तकनीक के माध्यम से हिंदी के प्रचार-प्रसार को लेकर कार्यरत हैं। बचपन से ही जिज्ञासु प्रकृति के रहे सन्दीप तकनीक के नए आयामों को समझने और उनके व्यावहारिक उपयोग को लेकर सदैव उत्सुक रहते हैं। हिंदीपथ के साथ जुड़कर वे तकनीक के माध्यम से हिंदी की उत्तम सामग्री को लोगों तक पहुँचाने के काम में लगे हुए हैं। संदीप का मानना है कि नए माध्यम ही हमें अपनी विरासत के प्रसार में सहायता पहुँचा सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: यह सामग्री सुरक्षित है !!