गंगा के 108 नाम – Ganga Ke 108 Naam

गंगा के 108 नाम (Ganga Ke 108 Naam) का स्मरण भक्त को सभी पापों से मुक्त करने वाला है। माँ गंगा तो पतितपावनी हैं तथा सबका उद्धार करने वाली हैं। जिस तरह गंगा नदी में स्नान सभी पापों को विनष्ट कर देता है वही प्रभाव गंगा के 108 नाम जपने से भी अवश्य ही होता है। यदि कोई गंगा के 108 नाम निम्न मंत्रों के माध्यम से जपता है तो उसके अन्तःकरण में गंगा की ऊर्जा अवतरित होकर सारे मनोमालिन्य को विदग्ध कर देती है। ऐसा व्यक्ति पापरहित होकर अक्षय पुण्य का भागी बनता है और उसकी सारी कामनाएँ भी पूर्ण हो जाती हैं। पढ़ें गंगा के 108 नाम–

यह भी पढ़ेंगंगा मैया की आरती

  1. ॐ गङ्गायै नमः।
  2. ॐ त्रिपथगादेव्यै नमः।
  3. ॐ शम्भुमौलिविहारिण्यै नमः।
  4. ॐ जाह्नव्यै नमः।
  5. ॐ पापहन्त्र्यै नमः।
  6. ॐमहापातकनाशिन्यै नमः।
  7. ॐ पतितोद्धारिण्यै नमः।
  8. ॐ स्रोतस्वत्यै नमः।
  9. ॐ परमवेगिन्यै नमः।
  10. ॐ विष्णुपादाब्जसम्भूतायै नमः।
  11. ॐ विष्णुदेहकृतालयायै नमः।
  12. ॐ स्वर्गाब्धिनिलयायै नमः।
  13. ॐ साध्व्यै नमः।
  14. ॐ स्वर्णद्यै नमः।
  15. ॐ सुरनिम्नगायै नमः।
  16. ॐ मन्दाकिन्यै नमः।
  17. ॐ महावेगायै नमः।
  18. ॐ स्वर्णशृङ्गप्रभेदिन्यै नमः।
  19. ॐ देवपूज्यतमायै नमः।
  20. ॐ दिव्यायै नमः।
  21. ॐ दिव्यस्थाननिवासिन्यै नमः।
  22. ॐ सुचारुनीररुचिरायै नमः।
  23. ॐ महापर्वतभेदिन्यै नमः।
  24. ॐ भागीरथ्यै नमः।
  25. ॐ भगवत्यै नमः।
  26. ॐ महामोक्षप्रदायिन्यै नमः।
  27. ॐ सिन्धुसङ्गगतायै नमः।
  28. ॐ शुद्धायै नमः।
  29. ॐ रसातलनिवासिन्यै नमः।
  30. ॐ महाभोगायै नमः।
  31. ॐ भोगवत्यै नमः।
  32. ॐ सुभगानन्ददायिन्यै नमः।
  33. ॐ महापापहरायै नमः।
  34. ॐ पुण्यायै नमः।
  35. ॐ परमाह्लाददायिन्यै नमः।
  36. ॐ पार्वत्यै नमः।
  37. ॐ शिवपत्न्यै नमः।
  38. ॐ शिवशीर्षगतालयायै नमः।
  39. ॐ शम्भोर्जटामध्यगतायै नमः।
  40. ॐ निर्मलायै नमः।
  41. ॐ निर्मलाननायै नमः।
  42. ॐ महाकलुषहन्त्र्यै नमः।
  43. ॐ जह्नुपुत्र्यै नमः।
  44. ॐ जगत्प्रियायै नमः।
  45. ॐ त्रैलोक्यपावन्यै नमः।
  46. ॐ पूर्णायै नमः।
  47. ॐ पूर्णब्रह्मस्वरूपिण्यै नमः।
  48. ॐ जगत्पूज्यतमायै नमः।
  49. ॐ चारुरूपिण्यै नमः।
  50. ॐ जगदम्बिकायै नमः।
  51. ॐ लोकानुग्रहकर्त्र्यै नमः।
  52. ॐ सर्वलोकदयापरायै नमः।
  53. ॐ याम्यभीतिहरायै नमः।
  54. ॐ तारायै नमः।
  55. ॐ पारायै नमः।
  56. ॐ संसारतारिण्यै नमः।
  57. ॐ ब्रह्माण्डभेदिन्यै नमः।
  58. ॐ ब्रह्मकमण्डलुकृतालयायै नमः।
  59. ॐ सौभाग्यदायिन्यै नमः।
  60. ॐ पुंसां निर्वाणपददायिन्यै नमः।
  61. ॐ अचिन्त्यचरितायै नमः।
  62. ॐ चारुरुचिरातिमनोहरायै नमः।
  63. ॐ मर्त्यस्थायै नमः।
  64. ॐ मृत्युभयहायै नमः।
  65. ॐ स्वर्गमोक्षप्रदायिन्यै नमः।
  66. ॐ पापापहारिण्यै नमः।
  67. ॐ दूरचारिण्यै नमः।
  68. ॐ वीचिधारिण्यै नमः।
  69. ॐ कारुण्यपूर्णायै नमः।
  70. ॐ करुणामय्यै नमः।
  71. ॐ दुरितनाशिन्यै नमः।
  72. ॐ गिरिराजसुतायै नमः।
  73. ॐ गौरीभगिन्यै नमः।
  74. ॐ गिरिशप्रियायै नमः।
  75. ॐ मेनकागर्भसम्भूतायै नमः।
  76. ॐ मैनाकभगिनीप्रियायै नमः।
  77. ॐ आद्यायै नमः।
  78. त्रिलोकजनन्यै नमः।
  79. ॐ त्रैलोक्यपरिपालिन्यै नमः।
  80. ॐ तीर्थश्रेष्ठतमायै नमः।
  81. ॐ श्रेष्ठायै नमः।
  82. ॐ सर्वतीर्थमय्यै नमः।
  83. ॐ शुभायै नमः।
  84. ॐ चतुर्वेदमय्यै नमः।
  85. ॐ सर्वायै नमः।
  86. ॐ पितृसन्तृप्तिदायिन्यै नमः।
  87. ॐ शिवदायै नमः।
  88. ॐ शिवसायुज्यदायिन्यै नमः।
  89. ॐ शिववल्लभायै नमः।
  90. ॐ तेजस्विन्यै नमः।
  91. ॐ त्रिनयनायै नमः।
  92. ॐ त्रिलोचनमनोरमायै नमः।
  93. ॐ सप्तधारायै नमः।
  94. ॐ शतमुख्यै नमः।
  95. ॐ सगरान्वयतारिण्यै नमः।
  96. ॐ मुनिसेव्यायै नमः।
  97. ॐ मुनिसुतायै नमः।
  98. ॐ जह्नुजानुप्रभेदिन्यै नमः।
  99. ॐ मकरस्थायै नमः।
  100. ॐ सर्वगतायै नमः।
  101. ॐ सर्वाशुभनिवारिण्यै नमः।
  102. ॐ सुदृश्यायै नमः।
  103. ॐ चाक्षुषीतृप्तिदायिन्यै नमः।
  104. ॐ मकरालयायै नमः।
  105. ॐ सदानन्दमय्यै नमः।
  106. ॐ नित्यानन्ददायै नमः।
  107. ॐ नगपूजितायै नमः।
  108. ॐ सर्वदेवाधिदेवैः परिपूज्यपदाम्बुजायै नमः।

विदेशों में बसे कुछ हिंदू स्वजनों के आग्रह पर गंगा के 108 नाम (Ganga Ke 108 Naam) को हम रोमन में भी प्रस्तुत कर रहे हैं। हमें आशा है कि वे इससे अवश्य लाभान्वित होंगे। पढ़ें गंगा के 108 नाम रोमन में–

  1. oṃ gaṅgāyai namaḥ।
  2. oṃ tripathagādevyai namaḥ।
  3. oṃ śambhumaulivihāriṇyai namaḥ।
  4. oṃ jāhnavyai namaḥ।
  5. oṃ pāpahantryai namaḥ।
  6. oṃmahāpātakanāśinyai namaḥ।
  7. oṃ patitoddhāriṇyai namaḥ।
  8. oṃ srotasvatyai namaḥ।
  9. oṃ paramaveginyai namaḥ।
  10. oṃ viṣṇupādābjasambhūtāyai namaḥ।
  11. oṃ viṣṇudehakṛtālayāyai namaḥ।
  12. oṃ svargābdhinilayāyai namaḥ।
  13. oṃ sādhvyai namaḥ।
  14. oṃ svarṇadyai namaḥ।
  15. oṃ suranimnagāyai namaḥ।
  16. oṃ mandākinyai namaḥ।
  17. oṃ mahāvegāyai namaḥ।
  18. oṃ svarṇaśṛṅgaprabhedinyai namaḥ।
  19. oṃ devapūjyatamāyai namaḥ।
  20. oṃ divyāyai namaḥ।
  21. oṃ divyasthānanivāsinyai namaḥ।
  22. oṃ sucārunīrarucirāyai namaḥ।
  23. oṃ mahāparvatabhedinyai namaḥ।
  24. oṃ bhāgīrathyai namaḥ।
  25. oṃ bhagavatyai namaḥ।
  26. oṃ mahāmokṣapradāyinyai namaḥ।
  27. oṃ sindhusaṅgagatāyai namaḥ।
  28. oṃ śuddhāyai namaḥ।
  29. oṃ rasātalanivāsinyai namaḥ।
  30. oṃ mahābhogāyai namaḥ।
  31. oṃ bhogavatyai namaḥ।
  32. oṃ subhagānandadāyinyai namaḥ।
  33. oṃ mahāpāpaharāyai namaḥ।
  34. oṃ puṇyāyai namaḥ।
  35. oṃ paramāhlādadāyinyai namaḥ।
  36. oṃ pārvatyai namaḥ।
  37. oṃ śivapatnyai namaḥ।
  38. oṃ śivaśīrṣagatālayāyai namaḥ।
  39. oṃ śambhorjaṭāmadhyagatāyai namaḥ।
  40. oṃ nirmalāyai namaḥ।
  41. oṃ nirmalānanāyai namaḥ।
  42. oṃ mahākaluṣahantryai namaḥ।
  43. oṃ jahnuputryai namaḥ।
  44. oṃ jagatpriyāyai namaḥ।
  45. oṃ trailokyapāvanyai namaḥ।
  46. oṃ pūrṇāyai namaḥ।
  47. oṃ pūrṇabrahmasvarūpiṇyai namaḥ।
  48. oṃ jagatpūjyatamāyai namaḥ।
  49. oṃ cārurūpiṇyai namaḥ।
  50. oṃ jagadambikāyai namaḥ।
  51. oṃ lokānugrahakartryai namaḥ।
  52. oṃ sarvalokadayāparāyai namaḥ।
  53. oṃ yāmyabhītiharāyai namaḥ।
  54. oṃ tārāyai namaḥ।
  55. oṃ pārāyai namaḥ।
  56. oṃ saṃsāratāriṇyai namaḥ।
  57. oṃ brahmāṇḍabhedinyai namaḥ।
  58. oṃ brahmakamaṇḍalukṛtālayāyai namaḥ।
  59. oṃ saubhāgyadāyinyai namaḥ।
  60. oṃ puṃsāṃ nirvāṇapadadāyinyai namaḥ।
  61. oṃ acintyacaritāyai namaḥ।
  62. oṃ cārurucirātimanoharāyai namaḥ।
  63. oṃ martyasthāyai namaḥ।
  64. oṃ mṛtyubhayahāyai namaḥ।
  65. oṃ svargamokṣapradāyinyai namaḥ।
  66. oṃ pāpāpahāriṇyai namaḥ।
  67. oṃ dūracāriṇyai namaḥ।
  68. oṃ vīcidhāriṇyai namaḥ।
  69. oṃ kāruṇyapūrṇāyai namaḥ।
  70. oṃ karuṇāmayyai namaḥ।
  71. oṃ duritanāśinyai namaḥ।
  72. oṃ girirājasutāyai namaḥ।
  73. oṃ gaurībhaginyai namaḥ।
  74. oṃ giriśapriyāyai namaḥ।
  75. oṃ menakāgarbhasambhūtāyai namaḥ।
  76. oṃ mainākabhaginīpriyāyai namaḥ।
  77. oṃ ādyāyai namaḥ।
  78. trilokajananyai namaḥ।
  79. oṃ trailokyaparipālinyai namaḥ।
  80. oṃ tīrthaśreṣṭhatamāyai namaḥ।
  81. oṃ śreṣṭhāyai namaḥ।
  82. oṃ sarvatīrthamayyai namaḥ।
  83. oṃ śubhāyai namaḥ।
  84. oṃ caturvedamayyai namaḥ।
  85. oṃ sarvāyai namaḥ।
  86. oṃ pitṛsantṛptidāyinyai namaḥ।
  87. oṃ śivadāyai namaḥ।
  88. oṃ śivasāyujyadāyinyai namaḥ।
  89. oṃ śivavallabhāyai namaḥ।
  90. oṃ tejasvinyai namaḥ।
  91. oṃ trinayanāyai namaḥ।
  92. oṃ trilocanamanoramāyai namaḥ।
  93. oṃ saptadhārāyai namaḥ।
  94. oṃ śatamukhyai namaḥ।
  95. oṃ sagarānvayatāriṇyai namaḥ।
  96. oṃ munisevyāyai namaḥ।
  97. oṃ munisutāyai namaḥ।
  98. oṃ jahnujānuprabhedinyai namaḥ।
  99. oṃ makarasthāyai namaḥ।
  100. oṃ sarvagatāyai namaḥ।
  101. oṃ sarvāśubhanivāriṇyai namaḥ।
  102. oṃ sudṛśyāyai namaḥ।
  103. oṃ cākṣuṣītṛptidāyinyai namaḥ।
  104. oṃ makarālayāyai namaḥ।
  105. oṃ sadānandamayyai namaḥ।
  106. oṃ nityānandadāyai namaḥ।
  107. oṃ nagapūjitāyai namaḥ।
  108. oṃ sarvadevādhidevaiḥ paripūjyapadāmbujāyai namaḥ।

यह भी पढ़ेंश्री गंगा दशहरा

सन्दीप शाह

सन्दीप शाह दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातक हैं। वे तकनीक के माध्यम से हिंदी के प्रचार-प्रसार को लेकर कार्यरत हैं। बचपन से ही जिज्ञासु प्रकृति के रहे सन्दीप तकनीक के नए आयामों को समझने और उनके व्यावहारिक उपयोग को लेकर सदैव उत्सुक रहते हैं। हिंदीपथ के साथ जुड़कर वे तकनीक के माध्यम से हिंदी की उत्तम सामग्री को लोगों तक पहुँचाने के काम में लगे हुए हैं। संदीप का मानना है कि नए माध्यम ही हमें अपनी विरासत के प्रसार में सहायता पहुँचा सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: यह सामग्री सुरक्षित है !!