झूलेलाल आरती – Jhulelal Aarti

झूलेलाल आरती को विशेषतः चेटी चंड के अवसर पर गाया जाता है। भगवान झूलेलाल को संत झूलेलाल, महाराज झूलेलाल दूलह देव या बस झूले के नामों से भी जाना जाता है। उन्हें न केवल हिंदू, बल्कि मुस्लिम और सिख भी पूजते हैं। भगवान झूलेलाल को वरुण देव का ही अवतार माना जाता है जो आज भी अपने भक्तों की सदैव रक्षा करते हैं। मान्यता है कि झूलेलाल आरती (Jhulelal Aarti) करने से सभी मनोकमानाएँ निश्चय ही पूर्ण होती हैं और उनका आशीष प्राप्त होता है। झूलेलाल जी की आरती को हिंदू सिंधी समाज के प्रायः सभी आयोजनों में गाया जाता है। उनके मंदिर में भी इसे प्रायः प्रातःकाल और सांयकाल में गाते हैं। पढ़ें झूलेलाल आरती हिंदी में–

यह भी पढ़ें – झूलेलाल चलीसा

ॐ जय दूलह देवा,
साईं जय दूलह देवा।
पूजा कनि था प्रेमी,
सिदुक रखी सेवा॥

तुहिंजे दर दे केई,
सजण अचनि सवाली।
दान वठन सभु दिलि,
सां कोन दिठुभ खाली॥
॥ ॐ जय दूलह देवा…॥

अंधड़नि खे दिनव,
अखडियूँ – दुखियनि खे दारुं।
पाए मन जूं मुरादूं,
सेवक कनि थारू॥
॥ ॐ जय दूलह देवा…॥

फल फूलमेवा सब्जिऊ,
पोखनि मंझि पचिन।
तुहिजे महिर मयासा अन्न,
बि आपर अपार थियनी॥
॥ ॐ जय दूलह देवा…॥

ज्योति जगे थी जगु में,
लाल तुहिंजी लाली।
अमरलाल अचु मूं वटी,
हे विश्व संदा वाली॥
॥ ॐ जय दूलह देवा…॥

जगु जा जीव सभेई,
पाणिअ बिन प्यास।
जेठानंद आनंद कर,
पूरन करियो आशा॥

ॐ जय दूलह देवा,
साईं जय दूलह देवा।
पूजा कनि था प्रेमी,
सिदुक रखी सेवा॥

विदेशों में बसे कुछ हिंदू स्वजनों के आग्रह पर झूलेलाल आरती (Jhulelal Aarti) को हम रोमन में भी प्रस्तुत कर रहे हैं। हमें आशा है कि वे इससे अवश्य लाभान्वित होंगे। पढ़ें झूलेलाल आरती रोमन में–

oṃ jaya dūlaha devā,
sāīṃ jaya dūlaha devā।
pūjā kani thā premī,
siduka rakhī sevā॥

tuhiṃje dara de keī,
sajaṇa acani savālī।
dāna vaṭhana sabhu dili,
sāṃ kona diṭhubha khālī॥
॥ oṃ jaya dūlaha devā…॥

aṃdhaḍa़ni khe dinava,
akhaḍiyū~ – dukhiyani khe dāruṃ।
pāe mana jūṃ murādūṃ,
sevaka kani thārū॥
॥ oṃ jaya dūlaha devā…॥

phala phūlamevā sabjiū,
pokhani maṃjhi pacina।
tuhije mahira mayāsā anna,
bi āpara apāra thiyanī॥
॥ oṃ jaya dūlaha devā…॥

jyoti jage thī jagu meṃ,
lāla tuhiṃjī lālī।
amaralāla acu mūṃ vaṭī,
he viśva saṃdā vālī॥
॥ oṃ jaya dūlaha devā…॥

jagu jā jīva sabheī,
pāṇia bina pyāsa।
jeṭhānaṃda ānaṃda kara,
pūrana kariyo āśā॥

oṃ jaya dūlaha devā,
sāīṃ jaya dūlaha devā।
pūjā kani thā premī,
siduka rakhī sevā॥

सन्दीप शाह

सन्दीप शाह दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातक हैं। वे तकनीक के माध्यम से हिंदी के प्रचार-प्रसार को लेकर कार्यरत हैं। बचपन से ही जिज्ञासु प्रकृति के रहे सन्दीप तकनीक के नए आयामों को समझने और उनके व्यावहारिक उपयोग को लेकर सदैव उत्सुक रहते हैं। हिंदीपथ के साथ जुड़कर वे तकनीक के माध्यम से हिंदी की उत्तम सामग्री को लोगों तक पहुँचाने के काम में लगे हुए हैं। संदीप का मानना है कि नए माध्यम ही हमें अपनी विरासत के प्रसार में सहायता पहुँचा सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: यह सामग्री सुरक्षित है !!