बुधवार की व्रत कथा – Budhwar Vrat Katha

बुधवार व्रत की कथा सुनने से हर तरह का सुख प्राप्त होता है। और भक्तिपूर्वक बुधवार व्रत करने से जीवन के सारे कष्ट दूर हो जाते है। पढ़ें बुधवार व्रत कथा–

बुधवार व्रत की विधि

मान्यता है कि ग्रह शान्ति तथा सर्व-सुखों की इच्छा रखने वालों को बुधवार का व्रत करना चाहिए और बुधवार की कहानी का पाठ करना चाहिए। इस व्रत में रात दिन में एक ही बार भोजन करना चाहिए। इस व्रत के समय हरी वस्तुओं का उपयोग करना श्रेष्ठ है।

व्रत के अंत में शंकर जी की पूजा, धूप, बेल-पत्र आदि से करनी चाहिए। साथ ही बुधवार की कथा सुनकर आरती के बाद प्रसाद लेकर जाना चाहिए। बीच में ही नहीं जाना चाहिए। आइए, पढ़ते हैं बुधवार की व्रत कथा (Budhwar Ki Katha)।

यह भी पढ़ें – बुध कवच स्तोत्र

बुधवार की व्रत कथा

बुधवार की व्रत कथा (Budhvar Vrat Katha) सभी क्लेशों को समाप्त करने वाली है। साथ ही इससे ग्रह दोष निवारण भी स्वतः ही हो जाता है।

एक समय एक व्यक्ति अपनी पत्नी को विदा करवाने के लिए अपनी ससुराल गया। वहाँ पर कुछ दिन रहने के पश्चात् सास-ससुर से विदा करने के लिये कहा। किन्तु सबने कहा कि आज बुधवार का दिन है, आज के दिन गमन नहीं करते हैं। वह व्यक्ति किसी प्रकार न माना और हठधर्मी करके बुधवार के दिन ही पत्नी को विदा कराकर अपने नगर को चल पड़ा।

राह में उसकी पत्नी को प्यास लगी तो उसने अपने पति से कहा कि मुझे बहुत जोर से प्यास लगी है। तब वह व्यक्ति लोटा लेकर रथ से उतरकर जल लेने चला गया। जैसे ही वह व्यक्ति पानी लेकर अपनी पत्नी के निकट आया तो वह यह देखकर आश्चर्य से चकित रह गया कि ठीक अपनी ही जैसी सूरत तथा वैसी ही वेश-भूषा में वह व्यक्ति उसकी पत्नी के पास रथ में बैठा हुआ है।

उसने क्रोध से कहा कि तू कौन है जो मेरी पत्नी के निकट बैठा हुआ है। दूसरा व्यक्ति बोला यह मेरी पत्नी है। मैं अभी-अभी ससुराल से विदा कराकर ला रहा हूँ। वे दोनों व्यक्ति परस्पर झगड़ने लगे।

तभी राज्य के सिपाही आकर लोटे वाले व्यक्ति को पकड़ने लगे। स्त्री से पूछा, तुम्हारा असली पति कौन-सा है? तब पत्नी शांत ही रही क्योंकि दोनों एक जैसे थे। वह किसे अपना असली पति कहे। वह व्यक्ति ईश्वर से प्रार्थना करता हुआ बोला, “हे परमेश्वर, यह क्या लीला है कि सच्चा झूठा बन रहा है।” तभी आकाशवाणी हुई कि मूर्ख, आज बुधवार के दिन तुझे गमन नहीं करना था। तूने किसी की बात नहीं मानी। यह सब लीला बुध भगवान की है।

उस व्यक्ति ने बुध देव से प्रार्थना की और अपनी ग़लती के लिये क्षमा मांगी। तब बुधदेव जी अन्तर्ध्यान हो गए। वह अपनी स्त्री को लेकर घर आया तथा बुधवार का व्रत वे दोनों पति पत्नी नियमपूर्वक करने लगे।

जो व्यक्ति इस बुधवार की व्रत कथा को श्रवण करता तथा सुनाता है, उसको बुधवार के दिन यात्रा करने का कोई दोष नहीं लगता है। उसको सर्व प्रकार से सुखों की प्राप्ति होती है। साथ ही बुधवार व्रत कथा (Budhwar Ki Kahani) पापों का नाश भी कर देती है।

हमारे ऑनलाइन प्लेटफॉर्म हिंदीपथ के माध्यम से हमने आप सभी के लिए बुधवार की कहानी (Budhwar Ki Kahani) प्रस्तुत की है। यह कथा बुधवार का व्रत करने अथवा न करने वाले प्रत्येक व्यक्ति को पढ़ना चाहिए। 

भगवान बुध को ही खगोल विज्ञान में हम बुध ग्रह के नाम से जानते हैं । बुध देव के चार हाथ हैं, जिसमे से एक-एक में वो तलवार, थाल, गदा, और चौथा हाथ वर मुद्रा में है।

भगवान बुध के सिर पर स्वर्ण मुकुट है और वे पीले फूलों और पीले वस्त्रों के आभूषण धारण करते हैं। अथर्ववेद के अनुसार, बुद्ध का जन्म चंद्र (चंद्रमा) और तारा से हुआ था। वह सभी में सबसे बुद्धिमान ग्रह है, और वह अपने पूजा करने वालों की सभी बाधाओं को दूर करते हैं। जहां तक संभव हो वे किसी अशुभ घटना के कारक नहीं होते, बल्कि सभी के लिए समृद्धि का सृजन करते हैं।

सभी जीवों को सर्वोच्च विवेक प्रदान करके, वे जीवन के माध्यम से, सांसारिक और आध्यात्मिक दोनों पथों को प्रकाशित करते हैं। चूंकि बालक बुध या बुध बहुत बुद्धिमान था, इसलिए भगवान ब्रह्मा ने उसे बुध नाम दिया। महाभारत की एक कथा के अनुसार राजा मनु ने अपनी पुत्री इला का विवाह बुध देव से करवाया था।

वैदिक ज्योतिष में बुध के जन्म के बारे में अक्सर एक कहानी सुनाई जाती है। बृहस्पति ऋषि और ग्रह का विवाह एक सुंदर और बुद्धिमान महिला, तारा  से हुआ था। एक दिन, चंद्रमा (चंद्र) ने तारा की एक झलक देखी और उसे उनसे प्रेम हो गया। कुछ प्रयास के बाद चंद्र ने तारा को अपने साथ भागने के लिए मना लिया।

अब, जब बृहस्पति (बृहस्पति) को पता चला कि चंद्रमा ने उनकी सुंदर पत्नी को भगा लिया है, तो वे क्रोधित हो गए, और मदद के लिए भगवान ब्रह्मा के पास गए। भगवान ब्रह्मा हस्तक्षेप करने के लिए सहमत हुए, और तारा से संपर्क कर उसे अपने पति के पास लौटने के लिए प्रोत्साहित किया। तारा चंद्र और उसके पति बृहस्पति के बीच युद्ध शुरू नहीं करना चाहती थी, इसलिए वह मान गई और एक कर्तव्यपरायण पत्नी की तरह घर लौट आई, लेकिन अपने चरित्र पर एक दाग के साथ।

जैसे-जैसे महीने बीतते गए, तारा को एहसास हुआ कि वह चंद्रमा के बच्चे के साथ गर्भवती थी, और जल्द ही उसने एक बेटे, बुध को जन्म दिया। बृहस्पति एक बार फिर उग्र हो गए, लेकिन जब उन्होंने नन्हे बुद्ध की सुंदरता और चंचलता को देखा तो उन्हें उस बालक से प्यार हो गया। 

इस प्रकार बुद्धि और भेदभाव का ग्रह बुध, चंद्रमा और तारा का पुत्र है। यह बुद्ध की भूमिका को भावनात्मक दिमाग और उच्च दिमाग के बीच जाने की व्याख्या करता है। वह विवेकशील, व्यावहारिक, सांसारिक बुद्धि का प्रतीक माना जाता है।

इससे यह भी स्पष्ट होता है कि बुध ज्योतिष में चंद्रमा के साथ मित्रवत क्यों नहीं है – वह अभी भी अपने पिता द्वारा उसे दूर रखने से परेशान है। इस कारण से जब बुध की युति जन्म कुंडली में चंद्रमा के साथ होती है, तो यह बुध और विवेकशील मन को परेशान करने वाला कहा जाता है।

चन्द्रमा से सम्बंधित होने की वजह से बुध का एक नाम सौम्या भी है। बुध का हरा रंग पवित्र दूर्वा के हरे रंग का प्रतीक है। वे एक शानदार ऊर्जावान शरीर के स्वामी हैं। 

ये महान ऋषि बुध, जिनकी गणित और व्यवसाय के लिए स्पष्ट योग्यता है, त्वचा, तर्कसंगत दिमाग, और भाषण पर शासन करते हैं। उसकी धातु पीतल और रत्न पन्ना है। वह वात, पित्त, और कफ का कारक ग्रह है और सभी स्वादों का शौकीन है। ये दिशाओं में उत्तर, दिनों में बुधवार, और राशियों में मिथुन और कन्या के स्वामी होते हैं। उन्हें स्वर्ण-आंखों, मोहक, सौम्य, ज्ञाता, और जाग्रत के रूप में जाना जाता है।

बुध बुद्धि और संचार का ग्रह है। इसे सुबह और शाम को सूर्य के पीछे एक चमकते सितारे के रूप में देखा जा सकता है। कभी-कभी दिन के समय में भी इसकी विकिरण शक्ति के कारण इसे देखा जा सकता है। बुध हमारे सौरमंडल का सबसे छोटा ग्रह है। यह शिक्षा, लेखकों, व्याख्याताओं, कलाकारों, शिक्षकों, व्यापारियों,  तंत्रिका तंत्र, फेफड़ों, और आंतों पर शासन करते हैं। ये बुद्धि, वाक्, आत्मविश्वास, हास्य, बुद्धि, ज्योतिष, गणित, और छोटी यात्राओं को नियंत्रित करता है।

बुध को अच्छी शिक्षा, व्यवसाय, तेज बुद्धि, और मनभावन उपस्थिति का आशीर्वाद देने के लिए, और गर्मी से प्रेरित बीमारियों, सामान्य दुर्बलता, और अवसाद को दूर रखने के लिए भी माना जाता है। यह ग्रह जीवन में पारिवारिक मामलों पर भी नज़र रखता है। यह अनुकूल होने पर मन की शांति, कमाई, बुद्धि, शिक्षा, और व्यवसाय से संबंधित है।

बुध के दो मुख हैं; यह एक दोहरी प्रकृति प्रदान करता है। इनको विद्वानों की संगति प्रिय है। वैदिक अंक ज्योतिष में बुध का अंक 5 होता है। यह सफलता, विरासत, व्यापार, संचार, और चतुराई का अंक है। हमें उम्मीद है कि आपको Budhwar Ki Kahani अच्छी लगी होगी। कृपया टिप्पणी करके हमें अपनी राय से अवगत कराएँ।

यह भी पढ़े

सोम प्रदोष व्रत कथासोमवार व्रत कथासोलह सोमवार व्रत कथामंगलवार व्रत कथा
मंगलवार प्रदोष व्रत कथाबुध प्रदोष व्रत कथाबृहस्पतिवार व्रत कथागुरुवार व्रत कथा
गुरुवार प्रदोष व्रत कथासंतोषी माता व्रत कथाशुक्र प्रदोष व्रत कथाशनि व्रत कथा
शनि प्रदोष व्रत कथारविवार व्रत कथारवि प्रदोष व्रत कथाप्रदोष व्रत कथा विधि
अहोई अष्टमी व्रत कथासाईं बाबा की व्रत कथा

सन्दीप शाह

सन्दीप शाह दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातक हैं। वे तकनीक के माध्यम से हिंदी के प्रचार-प्रसार को लेकर कार्यरत हैं। बचपन से ही जिज्ञासु प्रकृति के रहे सन्दीप तकनीक के नए आयामों को समझने और उनके व्यावहारिक उपयोग को लेकर सदैव उत्सुक रहते हैं। हिंदीपथ के साथ जुड़कर वे तकनीक के माध्यम से हिंदी की उत्तम सामग्री को लोगों तक पहुँचाने के काम में लगे हुए हैं। संदीप का मानना है कि नए माध्यम ही हमें अपनी विरासत के प्रसार में सहायता पहुँचा सकते हैं।

2 thoughts on “बुधवार की व्रत कथा – Budhwar Vrat Katha

  • July 2, 2022 at 4:43 pm
    Permalink

    बहुत ही सुंदर ढंग से विस्तार पूर्वक जानकारी दी गई है जो कि बहुत ही ज्ञानवर्धक है। बुधवार व्रत कथा विषय पर आपने जो जानकारी उपलब्ध करवाई है, इसके लिए आप प्रशंसा के पात्र है। बहुत ही सराहनीय प्रयास और हार्दिक शुभकामनाएं

    Reply
    • August 9, 2022 at 2:12 pm
      Permalink

      बहुत-बहुत धन्यवाद राजीव जी। इसी तरह हिंदीपथ पढ़ते रहें व हमारा मार्गदर्शन करते रहें।

      Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: यह सामग्री सुरक्षित है !!