गोलू देवता की आरती – Golu Devta Ki Aarti

गोलू देवता की आरती मन की सभी मुरादें पूर्ण करने वाली है। पहाड़ी क्षेत्रों में मान्यता है कि गोलू महाराज न्याय के देवता हैं और गौर भैरव अर्थात् शिव जी के अवतार हैं। आज भी कई जगहों पर गोलू दरबार की प्रथा प्रचलित है। आज-कल गोलू देव दरबार का सबसे प्रचलित रूप जागर है, जहाँ गोलू महाराज आकर सभी के कष्टों का हरण करते हैं और उनकी मनोकामनाएँ पूरी करते हैं। जो भी श्रद्धालु सच्चे दिल से गोलू देवता की आरती गाता है, गोलज्यू महाराज उनकी ज़रूर सुनते हैं। पढ़ें गोलू देवता की आरती (Golu Devta Ki Aarti) हिंदी में–

जय गोल ज्यू महाराज,
जय हो जय गोल ज्यू महाराज ..!

जय गोल ज्यू महाराज,
जय हो जय गोल ज्यू महाराज ..!!

ज्योत जगुनों तेरी…
सुफल करिए काज….!

जय हो जय गोल ज्यू महाराज ..!!

(कोरस)
जय गोल ज्यू महाराज,
जय हो जय गोल ज्यू महाराज ..

ज्योति जगुनों तेरी…
सुफल करिए काज….!

जय गोल ज्यू महाराज !!

पाड़ी में बगन तू आछे ,
लुवे को पिटार में नादान,
(देवा लुवे को पीटार में नादान)

गोरी घाट भाना पायो..
पड़ी गयो गोरिया नाम..!

जय हो जय गोल ज्यू महाराज ..!!

(कोरस)
जय हो जय गोल ज्यू महाराज ..
जय हो जय गोल ज्यू महाराज ..!!

ज्योति जलूनों तेरी…
सुफल करिए काज….!

जय गोल ज्यू महाराज !!

हरुआ, कलुवा भाई तेरो,
बड़ छेना जो दीवान..!

माता कालिंका तेरी…
बाबू झालो राज…!

जय हो जय गोल ज्यू महाराज ..!!

(कोरस)
जय हो जय गोल ज्यू महाराज
जय हो जय गोल ज्यू महाराज

ज्योति जलूनों तेरी…
सुफल करिए काज….!

जय गोल ज्यू महाराज !!

सुखिले लुकड़ टांक तेरो
कांठ का घोड़ में सवार !
(देवा काठ को घोड़ में सवार )

लुवे की लगाम हाथयू में..
चाबुक छू हथियार…!!

जय हो जय गोल ज्यू महाराज ..!!

(कोरस)
जय हो जय गोल ज्यू महाराज .
जय हो जय गोल ज्यू महाराज ..

ज्योति जलूनों तेरी…
सुफल करिए काज….!

जय गोल ज्यू महाराज !!

न्याय तेरो हूँ साची,
सब उनी तेरो द्वार,

देवा सब उनी तेरो द्वार !
जो मांखी तेरो नो ल्यूं …

लगे वीक नय्या पार !

जय गोल ज्यू महाराज !!

(कोरस)
जय हो जय गोल ज्यू महाराज .
जय हो जय गोल ज्यू महाराज ..

ज्योति जलूनों तेरी…
सुफल करिए काज….!

जय गोल ज्यू महाराज !!

दूध, बतास और नारियल,
फूल चडनी तेरो द्वार,
देवा फूल चडनी तेरो द्वार !

प्रथम मंदीर चम्पावत..
फिर चितई, घोड़ाखाल.!

जय गोल ज्यू महाराज !!

(कोरस)
जय हो जय गोल ज्यू महाराज .
जय हो जय गोल ज्यू महाराज ..

ज्योति जलूनों तेरी…
सुफल करिए काज….!

जय गोल ज्यू महाराज !!

सन्दीप शाह

सन्दीप शाह दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातक हैं। वे तकनीक के माध्यम से हिंदी के प्रचार-प्रसार को लेकर कार्यरत हैं। बचपन से ही जिज्ञासु प्रकृति के रहे सन्दीप तकनीक के नए आयामों को समझने और उनके व्यावहारिक उपयोग को लेकर सदैव उत्सुक रहते हैं। हिंदीपथ के साथ जुड़कर वे तकनीक के माध्यम से हिंदी की उत्तम सामग्री को लोगों तक पहुँचाने के काम में लगे हुए हैं। संदीप का मानना है कि नए माध्यम ही हमें अपनी विरासत के प्रसार में सहायता पहुँचा सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: यह सामग्री सुरक्षित है !!