बोलो हर हर हर – To Bolo Har Har Shivay Lyrics

“बोलो हर हर हर” गीत 2016 में आई अजय देवगन की फ़िल्म शिवाय (Shivay) का गाना है। इसमें आवाज़ दी है मोहित चौहान, सुखविंदर सिंह, मेघा श्रीराम और बादशाह ने। इस गीत के बोल लिखे हैं संदीप श्रीवास्तव ने और संगीतबद्ध किया है मिथुन (Mithoon) ने। पढ़ें बोलो हर हर के बोल (Bolo Har Har Lyrics) हिंदी में–

आग बहे तेरी रग में
तुझसा कहाँ कोई जग में
है वक़्त का तू ही तो पहला पहर
तू आँख जो खोले तो ढाए कहर
तो बोलो हर हर हर
तो बोलो हर हर हर

आदि ना अंत है उसका
वो सबका ना इनका उनका
वोही है माला, वोही है मनका
मस्त मलंग वो अपनी धुन का

अंतर मंतर तंतर जागी
है सर्वत्र के स्वाभिमानी
मृत्युंजय है महा विनाशी
ओमकार है इसी की वाणी
इसी की इसी की इसी की वाणी
इसी की इसी की इसी की वाणी

भांग धतुरा बेल का पत्ता
तीनो लोक इसी की सत्ता
विष पीकर भी अडिग अमर है
महादेव हर हर है जपता

वोही शून्य है वोही इकाई
वोही शून्य है वोही इकाई
वोही शून्य है वोही इकाई
जिसके भीतर बस्ता शिवा है

…. नागेन्द्र हराया त्रिलोचानाया
बस्मंगा रागाया महेस्वराया
निथ्याया शुधाया दिगम्बराया
तस्मै॑ नकाराया नमशिवाया
शिवा त्राहिमाम शिवा त्राहिमाम
शिवा त्राहिमाम शिवा त्राहिमाम
महादेव जी त्राहिमाम, शर्नागातम
तवं त्राहिमाम, शिवा रक्ष्यामम
शिवा रक्ष्यामम, शिवा त्राहिमाम

आँख मूँद कर देख रहा है
साथ समय के खेल रहा है
महादेव महा एकाकी
जिसके लिए जगत है झांकी
जटा में गंगा, चाँद मुकुट है
सोम्य कभी कभी बड़ा विकट है
आग से जलना है कैलाशी
शक्ति जिसकी दर्द की प्यासी
है प्यासी, हाँ प्यासी

राम भी उसका, रावन उसका
जीवन उसका मरण भी उसका
तांडव है और ध्यान भी वो है
अज्ञानी का ज्ञान भी वो है
आँख तीसरी जब ये खोले
हिले धरा और स्वर्ग भी डोले
गूँज उठे हर दिशा क्षितिज में
नंद उसी का बम बम भोले

वही शून्य है वोही इकाई
वही शून्य है वोही इकाई
वही शून्य है वोही इकाई
जिसके भीतर बसा शिवा है

तो बोलो हर हर हर…

जा कर विनाश जा जा के कैलाश
जा कर विनाश जा जा के कैलाश
तो बोलो हर हर हर

जा जा के कैलाश जा कर विनाश
जा जा के कैलाश जा कर विनाश
जा जा के कैलाश जा कर विनाश

यक्ष स्वरूपाया जट्टा धराय
पिनाका हस्थाथाया संथानाय
दिव्याया देवाया दिगम्बराय
तस्मै यकाराय नमः शिवाय

विदेशों में बसे कुछ हिंदू स्वजनों के आग्रह पर यह गीत को हम रोमन में भी प्रस्तुत कर रहे हैं। हमें आशा है कि वे इससे अवश्य लाभान्वित होंगे। पढ़ें यह गीत रोमन में–

Read To Bolo Har Har Shivay Lyrics

āga bahe terī raga meṃ
tujhasā kahā~ koī jaga meṃ
hai vaक़ta kā tū hī to pahalā pahara
tū ā~kha jo khole to ḍhāe kahara
to bolo hara hara hara
to bolo hara hara hara

ādi nā aṃta hai usakā
vo sabakā nā inakā unakā
vohī hai mālā, vohī hai manakā
masta malaṃga vo apanī dhuna kā

aṃtara maṃtara taṃtara jāgī
hai sarvatra ke svābhimānī
mṛtyuṃjaya hai mahā vināśī
omakāra hai isī kī vāṇī
isī kī isī kī isī kī vāṇī
isī kī isī kī isī kī vāṇī

bhāṃga dhaturā bela kā pattā
tīno loka isī kī sattā
viṣa pīkara bhī aḍiga amara hai
mahādeva hara hara hai japatā

vohī śūnya hai vohī ikāī
vohī śūnya hai vohī ikāī
vohī śūnya hai vohī ikāī
jisake bhītara bastā śivā hai

…. nāgendra harāyā trilocānāyā
basmaṃgā rāgāyā mahesvarāyā
nithyāyā śudhāyā digambarāyā
tasmai॑ nakārāyā namaśivāyā
śivā trāhimāma śivā trāhimāma
śivā trāhimāma śivā trāhimāma
mahādeva jī trāhimāma, śarnāgātama
tavaṃ trāhimāma, śivā rakṣyāmama
śivā rakṣyāmama, śivā trāhimāma

ā~kha mū~da kara dekha rahā hai
sātha samaya ke khela rahā hai
mahādeva mahā ekākī
jisake lie jagata hai jhāṃkī
jaṭā meṃ gaṃgā, cā~da mukuṭa hai
somya kabhī kabhī baड़ā vikaṭa hai
āga se jalanā hai kailāśī
śakti jisakī darda kī pyāsī
hai pyāsī, hā~ pyāsī

rāma bhī usakā, rāvana usakā
jīvana usakā maraṇa bhī usakā
tāṃḍava hai aura dhyāna bhī vo hai
ajñānī kā jñāna bhī vo hai
ā~kha tīsarī jaba ye khole
hile dharā aura svarga bhī ḍole
gū~ja uṭhe hara diśā kṣitija meṃ
naṃda usī kā bama bama bhole

vahī śūnya hai vohī ikāī
vahī śūnya hai vohī ikāī
vahī śūnya hai vohī ikāī
jisake bhītara basā śivā hai

to bolo hara hara hara…

jā kara vināśa jā jā ke kailāśa
jā kara vināśa jā jā ke kailāśa
to bolo hara hara hara

jā jā ke kailāśa jā kara vināśa
jā jā ke kailāśa jā kara vināśa
jā jā ke kailāśa jā kara vināśa

yakṣa svarūpāyā jaṭṭā dharāya
pinākā hasthāthāyā saṃthānāya
divyāyā devāyā digambarāya
tasmai yakārāya namaḥ śivāya

यह भी पढ़े

केदारनाथ की आरतीसोमवार व्रत कथासोलह सोमवार व्रत कथासोम प्रदोष व्रत कथामेरा भोला है भंडारीआज सोमवार हैलागी लगन शंकराशिव से मिलना हैहर हर शंभू शिव महादेवाशिव समा रहे मुझमेंनमो नमो जी शंकरागंगा किनारे चले जानापार्वती बोली शंकर सेजय हो भोलेसब कुछ मिला रे भोलेमहाकाल की महाकालीशिव शंकर को जिसने पूजासुबह सुबह ले शिव का नामशंकर मेरा प्याराजय जय बाबा अमरनाथ बर्फानीसज रहे भोले बाबा निराले दूल्हे मेंभोला भांग तुम्हारी मैं घोटत घोटत हारीशिवजी बिहाने चलेधुडु नचेयासब देव चले महादेव चलेसब कुछ मिला रे भोलाएक दिन वह भोले भंडारीहर हर महादेव शिवायआग लगे चाहे बस्ती मेंबोलो हर हर महादेवमेरा शिव सन्यासी हो गयाएक दिन मैया पार्वतीजाना पड़ेगा श्मशानमैं शिव का हूं शिव मेरे हैंशंभू तेरी मायाहोली खेले मसानेभोलेनाथ की शादीतू महलों में रहने वालीशिव में मिलना हैऐसा डमरू बजाया भोलेनाथ ने

सन्दीप शाह

सन्दीप शाह दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातक हैं। वे तकनीक के माध्यम से हिंदी के प्रचार-प्रसार को लेकर कार्यरत हैं। बचपन से ही जिज्ञासु प्रकृति के रहे सन्दीप तकनीक के नए आयामों को समझने और उनके व्यावहारिक उपयोग को लेकर सदैव उत्सुक रहते हैं। हिंदीपथ के साथ जुड़कर वे तकनीक के माध्यम से हिंदी की उत्तम सामग्री को लोगों तक पहुँचाने के काम में लगे हुए हैं। संदीप का मानना है कि नए माध्यम ही हमें अपनी विरासत के प्रसार में सहायता पहुँचा सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: यह सामग्री सुरक्षित है !!