मेरा शिव सन्यासी हो गया – Mera Shiv Sanyasi Ho Gaya Lyrics

“मेरा शिव सन्यासी हो गया” गीत के बोल (Mera Shiv Sanyasi Ho Gaya lyrics) पढ़ें और सावन में कावड़ियों की शंकर भगवान के प्रति अटूट अल्हड़ भक्ति का परिचय पाएँ–

मेरा शिव सन्यासी हो गया,
कावड़ियों के मेले में,
बम बम की धुन में खो गया,
कावड़ियों के रेले में,
सावन की मस्त बहार,
ऐसी ठंडी पड़े फुहार,
अब इससे ज्यादा क्या कहूँ,
वो मस्त भंग में हो गया,
कावड़ियों के मेले में,
मेरा शिव सन्यासी हो गया,
कावड़ियों के मेले में॥

मेरा नाथ बड़ा है भोला,
करे भांग के ऊपर रोला,
जोगी का भेष बना के,
कांधे पे लटके झोला,
संग कुण्डी सोटा ले गया,
कावड़ियों के मेले में,
मेरा शिव सन्यासी हो गया,
कावड़ियों के मेले में।

सावन की मस्त बहार,
ऐसी ठंडी पड़े फुहार,
अब इससे ज्यादा क्या कहूं,
वो मस्त भंग में हो गया,
कावड़ियों के मेले में,
मेरा शिव सन्यासी हो गया,
कावड़ियों के मेले में॥

कैलाश पे हल्ला भारी,
कहाँ चले गए भंडारी,
कहीं ब्रह्मा, विष्णु ढूंढे,
कही ढूंढे गौरा प्यारी,
संग में नंदी को ले गया,
कावड़ियों के मेले में,
मेरा शिव सन्यासी हो गया,
कावड़ियों के मेले में।

सावन की मस्त बहार,
ऐसी ठंडी पड़े फुहार,
अब इससे ज्यादा क्या कहूं,
वो मस्त भंग में हो गया,
कावड़ियों के मेले में,
मेरा शिव सन्यासी हो गया,
कावड़ियों के मेले में॥

मेरे शिव का रूप निराला,
है लम्बे चोटे वाला,
कर में त्रिशूल और डमरू,
गल में सर्पों की माला,
भक्तों के मन को मोह गया,
कावड़ियों के मेले में,
मेरा शिव संन्यासी हो गया,
कावड़ियों के मेले में।

सावन की मस्त बहार,
ऐसी ठंडी पड़े फुहार,
अब इससे ज्यादा क्या कहूं,
वो मस्त भंग में हो गया,
कावड़ियों के मेले में,
मेरा शिव संन्यासी हो गया,
कावड़ियों के मेले में॥

मेरा शिव सन्यासी हो गया,
कावड़ियों के मेले में,
बम बम की धुन में खो गया,
कावड़ियों के रेले में,
सावन की मस्त बहार,
ऐसी ठंडी पड़े फुहार,
अब इससे ज्यादा क्या कहूं,
वो मस्त भंग में हो गया,
कावड़ियों के मेले में,
मेरा शिव सन्यासी हो गया,
कावड़ियों के मेले में॥

विदेशों में बसे कुछ हिंदू स्वजनों के आग्रह पर यह गीत को हम रोमन में भी प्रस्तुत कर रहे हैं। हमें आशा है कि वे इससे अवश्य लाभान्वित होंगे। पढ़ें यह गीत रोमन में–

Read Mera Shiv Sanyasi Ho Gaya Lyrics

merā śiva sanyāsī ho gayā,
kāvaḍa़iyoṃ ke mele meṃ,
bama bama kī dhuna meṃ kho gayā,
kāvaḍa़iyoṃ ke rele meṃ,
sāvana kī masta bahāra,
aisī ṭhaṃḍī paड़e phuhāra,
aba isase jyādā kyā kahū~,
vo masta bhaṃga meṃ ho gayā,
kāvaḍa़iyoṃ ke mele meṃ,
merā śiva sanyāsī ho gayā,
kāvaḍa़iyoṃ ke mele meṃ॥

merā nātha baड़ā hai bholā,
kare bhāṃga ke ūpara rolā,
jogī kā bheṣa banā ke,
kāṃdhe pe laṭake jholā,
saṃga kuṇḍī soṭā le gayā,
kāvaḍa़iyoṃ ke mele meṃ,
merā śiva sanyāsī ho gayā,
kāvaḍa़iyoṃ ke mele meṃ।

sāvana kī masta bahāra,
aisī ṭhaṃḍī paड़e phuhāra,
aba isase jyādā kyā kahūṃ,
vo masta bhaṃga meṃ ho gayā,
kāvaḍa़iyoṃ ke mele meṃ,
merā śiva sanyāsī ho gayā,
kāvaḍa़iyoṃ ke mele meṃ॥

kailāśa pe hallā bhārī,
kahā~ cale gae bhaṃḍārī,
kahīṃ brahmā, viṣṇu ḍhūṃḍhe,
kahī ḍhūṃḍhe gaurā pyārī,
saṃga meṃ naṃdī ko le gayā,
kāvaḍa़iyoṃ ke mele meṃ,
merā śiva sanyāsī ho gayā,
kāvaḍa़iyoṃ ke mele meṃ।

sāvana kī masta bahāra,
aisī ṭhaṃḍī paड़e phuhāra,
aba isase jyādā kyā kahūṃ,
vo masta bhaṃga meṃ ho gayā,
kāvaḍa़iyoṃ ke mele meṃ,
merā śiva sanyāsī ho gayā,
kāvaḍa़iyoṃ ke mele meṃ॥

mere śiva kā rūpa nirālā,
hai lambe coṭe vālā,
kara meṃ triśūla aura ḍamarū,
gala meṃ sarpoṃ kī mālā,
bhaktoṃ ke mana ko moha gayā,
kāvaḍa़iyoṃ ke mele meṃ,
merā śiva saṃnyāsī ho gayā,
kāvaḍa़iyoṃ ke mele meṃ।

sāvana kī masta bahāra,
aisī ṭhaṃḍī paड़e phuhāra,
aba isase jyādā kyā kahūṃ,
vo masta bhaṃga meṃ ho gayā,
kāvaḍa़iyoṃ ke mele meṃ,
merā śiva saṃnyāsī ho gayā,
kāvaḍa़iyoṃ ke mele meṃ॥

merā śiva sanyāsī ho gayā,
kāvaḍa़iyoṃ ke mele meṃ,
bama bama kī dhuna meṃ kho gayā,
kāvaḍa़iyoṃ ke rele meṃ,
sāvana kī masta bahāra,
aisī ṭhaṃḍī paड़e phuhāra,
aba isase jyādā kyā kahūṃ,
vo masta bhaṃga meṃ ho gayā,
kāvaḍa़iyoṃ ke mele meṃ,
merā śiva sanyāsī ho gayā,
kāvaḍa़iyoṃ ke mele meṃ॥

यह भी पढ़े

दारिद्रय दहन शिव स्तोत्रशिवरात्रि की आरतीकेदारनाथ की आरतीसोमवार व्रत कथासोलह सोमवार व्रत कथासोम प्रदोष व्रत कथामेरा भोला है भंडारीआज सोमवार हैलागी लगन शंकराशिव से मिलना हैहर हर शंभू शिव महादेवाशिव समा रहे मुझमेंनमो नमो जी शंकरागंगा किनारे चले जानापार्वती बोली शंकर सेजय हो भोलेसब कुछ मिला रे भोलेमहाकाल की महाकालीशिव शंकर को जिसने पूजासुबह सुबह ले शिव का नामशंकर मेरा प्याराजय जय बाबा अमरनाथ बर्फानीसज रहे भोले बाबा निराले दूल्हे मेंभोला भांग तुम्हारी मैं घोटत घोटत हारीशिवजी बिहाने चलेधुडु नचेयासब देव चले महादेव चलेसब कुछ मिला रे भोलाशंकर मेरा प्याराएक दिन वह भोले भंडारीहर हर महादेव शिवायआग लगे चाहे बस्ती मेंबोलो हर हर महादेवएक दिन मैया पार्वतीमैं शिव का हूं शिव मेरे हैं

सन्दीप शाह

सन्दीप शाह दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातक हैं। वे तकनीक के माध्यम से हिंदी के प्रचार-प्रसार को लेकर कार्यरत हैं। बचपन से ही जिज्ञासु प्रकृति के रहे सन्दीप तकनीक के नए आयामों को समझने और उनके व्यावहारिक उपयोग को लेकर सदैव उत्सुक रहते हैं। हिंदीपथ के साथ जुड़कर वे तकनीक के माध्यम से हिंदी की उत्तम सामग्री को लोगों तक पहुँचाने के काम में लगे हुए हैं। संदीप का मानना है कि नए माध्यम ही हमें अपनी विरासत के प्रसार में सहायता पहुँचा सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: यह सामग्री सुरक्षित है !!