बोलो हर हर महादेव – Bolo Har Har Mahadev Lyrics

“बोलो हर हर महादेव” भजन देवों के देव महादेव को समर्पित है। शंकर जी वीतराग हैं अर्थात् राग-द्वेषादि के बंधनों से परे हैं। फिर भी वे भक्तों को सहज प्राप्य हैं क्योंकि वे अपने भक्तों से शीघ्र ही प्रसन्न होने वाले हैं। पवित्र भक्ति और तीव्र श्रद्धा हो तो भोलेनाथ तुरन्त ही भक्त को आशीर्वाद प्रदान करते हैं। पढ़ें अन्तस् में शिव जी की भक्ति को और भी अधिक प्रगाढ़ करने वाले इस “बोलो हर हर महादेव” के बोल (Bolo Har Har Mahadev Lyrics) हिंदी में–

“बोलो हर हर महादेव” भजन

ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम् |
उर्वारुकमिव बन्धनान्मृत्योर्मुक्षीय माऽमृतात् ||

जटाटवी गलज्जल प्रवाह पावित स्थले
गलेऽव लम्ब्य लम्बिताम भुजंग तुंग मालिकाम्‌ |
डमड्ड मड्ड मड्ड मन्नी नाद वड्ड मर्वयम
चकार चंडतांडवम तनोतु नः शिवः शिवम ||

देवा देवा देवा देवा जय हो श्री महादेवा,
जय हो तेरी डमरू धारी ॐ नमः शिवाय,
चंद्र शेखरा हो प्यारे जय हो तेरी शंकरारे,
जय हो त्रिशूल धारी ॐ नमः शिवाय।

जटा बीच गंगा मैया स्वर्ग से उतरी है,
भक्ति का प्रतीक तेरी नंदी की सवारी है,
सच्चे मन से जाप करे पा लेता वो शिव को,
या धुस्त कर्मी प्रणियो पे काल तेरा भारी है,
देवा देवा देवा देवा जय हो श्री महादेवा……

हा… बोलो हर हर महादेव
हू…हर हर हर महादेव

बोलो हर हर महादेव, बोलो हर हर महादेव
बोलो हर हर महादेव, बोलो हर हर महादेव

वीर भद्र भद्रकाली अंश तेरे महाकाली,
तोड़ के जटा डाली ॐ नमः शिवायः
पृथ्वी लोक स्वर्ग लोक चाहे हो पाताल लोक,
सबमे तूने जान डाली ॐ नमः शिवाय,
देवा देवा देवा देवा जय हो श्री महादेवा……

श्री श्री कंठ जय हो तेरी नीलकंठो,
तू ही मेरा मूल मंत्र ॐ नमः शिवाय,
प्राण देव ज्ञान देव जय हो तेरी वामदेव,
जय हो तेरी जटाधारी ॐ नमः शिवाय,
देवा देवा देवा देवा जय हो श्री महादेवा……

( ॐ नमः शिवाय का जापी,
जो कर्ता श्याम सवेरे,
काल भी उसका क्या करेगा,
जब भोले साथ है तेरे,
जब भोले साथ है तेरे। )

ॐ नमः शिवाय, जय भोलेनाथ, हर हर महादेव

विदेशों में बसे कुछ हिंदू स्वजनों के आग्रह पर यह गीत को हम रोमन में भी प्रस्तुत कर रहे हैं। हमें आशा है कि वे इससे अवश्य लाभान्वित होंगे। पढ़ें यह गीत रोमन में–

Read Bolo Har Har Mahadev Lyrics

“bolo hara hara mahādeva” bhajana
oṃ tryambakaṃ yajāmahe sugandhiṃ puṣṭivardhanam |
urvārukamiva bandhanānmṛtyormukṣīya mā’mṛtāt ||

jaṭāṭavī galajjala pravāha pāvita sthale
gale’va lambya lambitāma bhujaṃga tuṃga mālikām‌ |
ḍamaḍḍa maḍḍa maḍḍa mannī nāda vaḍḍa marvayama
cakāra caṃḍatāṃḍavama tanotu naḥ śivaḥ śivama ||

devā devā devā devā jaya ho śrī mahādevā,
jaya ho terī ḍamarū dhārī oṃ namaḥ śivāya,
caṃdra śekharā ho pyāre jaya ho terī śaṃkarāre,
jaya ho triśūla dhārī oṃ namaḥ śivāya।

jaṭā bīca gaṃgā maiyā svarga se utarī hai,
bhakti kā pratīka terī naṃdī kī savārī hai,
sacce mana se jāpa kare pā letā vo śiva ko,
yā dhusta karmī praṇiyo pe kāla terā bhārī hai,
devā devā devā devā jaya ho śrī mahādevā……

hā… bolo hara hara mahādeva
hū…hara hara hara mahādeva

bolo hara hara mahādeva, bolo hara hara mahādeva
bolo hara hara mahādeva, bolo hara hara mahādeva

vīra bhadra bhadrakālī aṃśa tere mahākālī,
toḍa़ ke jaṭā ḍālī oṃ namaḥ śivāyaḥ
pṛthvī loka svarga loka cāhe ho pātāla loka,
sabame tūne jāna ḍālī oṃ namaḥ śivāya,
devā devā devā devā jaya ho śrī mahādevā……

śrī śrī kaṃṭha jaya ho terī nīlakaṃṭho,
tū hī merā mūla maṃtra oṃ namaḥ śivāya,
prāṇa deva jñāna deva jaya ho terī vāmadeva,
jaya ho terī jaṭādhārī oṃ namaḥ śivāya,
devā devā devā devā jaya ho śrī mahādevā……

( oṃ namaḥ śivāya kā jāpī,
jo kartā śyāma savere,
kāla bhī usakā kyā karegā,
jaba bhole sātha hai tere,
jaba bhole sātha hai tere। )

oṃ namaḥ śivāya, jaya bholenātha, hara hara mahādeva

यह भी पढ़े

केदारनाथ की आरतीसोमवार व्रत कथासोलह सोमवार व्रत कथासोम प्रदोष व्रत कथामेरा भोला है भंडारीआज सोमवार हैलागी लगन शंकराशिव से मिलना हैहर हर शंभू शिव महादेवाशिव समा रहे मुझमेंनमो नमो जी शंकरागंगा किनारे चले जानापार्वती बोली शंकर सेजय हो भोलेसब कुछ मिला रे भोलेमहाकाल की महाकालीशिव शंकर को जिसने पूजासुबह सुबह ले शिव का नामशंकर मेरा प्याराजय जय बाबा अमरनाथ बर्फानीसज रहे भोले बाबा निराले दूल्हे मेंभोला भांग तुम्हारी मैं घोटत घोटत हारीशिवजी बिहाने चलेधुडु नचेयासब देव चले महादेव चलेसब कुछ मिला रे भोलाशंकर मेरा प्याराएक दिन वह भोले भंडारीहर हर महादेव शिवायआग लगे चाहे बस्ती मेंबोलो हर हर महादेवमेरा शिव सन्यासी हो गयाएक दिन मैया पार्वतीमैं शिव का हूं शिव मेरे हैं

सन्दीप शाह

सन्दीप शाह दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातक हैं। वे तकनीक के माध्यम से हिंदी के प्रचार-प्रसार को लेकर कार्यरत हैं। बचपन से ही जिज्ञासु प्रकृति के रहे सन्दीप तकनीक के नए आयामों को समझने और उनके व्यावहारिक उपयोग को लेकर सदैव उत्सुक रहते हैं। हिंदीपथ के साथ जुड़कर वे तकनीक के माध्यम से हिंदी की उत्तम सामग्री को लोगों तक पहुँचाने के काम में लगे हुए हैं। संदीप का मानना है कि नए माध्यम ही हमें अपनी विरासत के प्रसार में सहायता पहुँचा सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: यह सामग्री सुरक्षित है !!